Updated May 16th, 2024 at 14:55 IST

चिराग पासवान ने INDI गठबंधन को क्यों बताया भानुमति का कुनबा? बोले- 1 फीसदी का भी कोई भ्रम नहीं...

चिराग पासवान ने इंडी अलायंस को कमजोर बताया। LJP(रामविलास) प्रमुख ने तंज कसा कि गठबंधन के साथी एक दूसरे का गला काटने में लगे हैं।

Reported by: Kiran Rai
चिराग पासवान | Image:Chirag Paswan
Advertisement

Chirag Paswan:  LJP(रामविलास) प्रमुख और हाजीपुर लोकसभा सीट से उम्मीदवार चिराग पासवान ने विपक्षी गठबंधन पर चुटकी ली। उनके मुताबिक महत्वाकांक्षा के चक्कर में बिखराव तय है। विरोधाभास की बात कर नीति और नीयत पर सवाल खड़े किए।

चिराग ने घटक दलों के बीच बैर की ओर संकेत दिया और तुलनात्मक तौर पर एनडीए के बीच सधे सामंजस्य को विपक्षियों से बेहतर बताया।

Advertisement

भानुमति का कुनबा

चिराग से ममता बनर्जी के बाहर से समर्थन दिए जाने वाले बयान पर बोले-ने कहा-, इन लोगों में कौन किसको समर्थन दे रहा पहले चुनाव लड़ेगा फिर समर्थन दीजिएगा..ये विरोधाभास नहीं तो और क्या है...इंडी अलायंस की नीति नीयत ठीक नहीं है। आम आदमी पार्टी दिल्ली में कांग्रेस के खिलाफ, पंजाब में गठबंधन के खिलाफ, ममता दीदी के बंगाल में भी ऐसा है...और बाद में समर्थन की कहती हैं। ये भानुमति का कुनबा नहीं है तो क्या है? किसी की कोई नीति, नीयत या महत्वकांक्षा नहीं है। सभी की केवल एक ही महत्वकांक्षा है कि कैसे एक-दूसरे का गला काटकर हम सत्ता के पास पहुंच जाएं...

Advertisement

भ्रम नहीं पार कर चुके हैं बहुमत

चिराग ने दावे के साथ कहा कि भ्रम की स्थिति नहीं है ...1% का भी कोई भ्रम नहीं है। 5वें चरण के नामांकन होने हैं...हम  हम(NDA) 400 के लक्ष्य को बहुत सरलता से पार कर रहे हैं... इन चार चरणों में ही हम बहुमत हासिल कर चुके हैं ये बात भी तय है..."

ममता बनर्जी ने क्या कहा था?

लगातार अपने ही गठबंधन साथियों को निशाने पर ले लगभग राह अलग कर चुकी है। गठबंधन के बड़े जलसे से दूर रहीं लेकिन इस बीच पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने बड़ा ऐलान किया- अगर इंडिया गठबंधन की सरकार बनी तो बाहर से उसे समर्थन देंगी। बंगाल में टिकट बंटवारे को लेकर सहमति नहीं बन पाए थे। सीट शेयरिंग पर मामला ऐसा उलझा कि गठबंधन के साथी एक दूसरे के सामने खड़े हो गए।  ममता एक तरफ सिर्फ दो सीटें देने को तैयार थी तो कांग्रेस 7 से कम पर तैयार नहीं हुई। अधीर रंजन चौधरी ने तो यहां तक कह दिया था कि उन्हें ममता की भीख की जरूरत नहीं है।

ये भी पढ़ें- स्‍वाति मालीवाल के सवाल पर केजरीवाल ने नहीं दिया जवाब, अखिलेश बोले- ये जरूरी नहीं...

Advertisement

Published May 16th, 2024 at 14:55 IST

Whatsapp logo