Advertisement

Updated April 2nd, 2024 at 14:59 IST

तोशाखाना मामले में इमरान खान और पत्नी बुशरा बीवी को बड़ी राहत, 14 साल की सजा पर लगी रोक

तोशाखाना मामले में इमरान खान और उनकी पत्नी बुशरा बीवी को राहत देते हुए कोर्ट ने 14 साल की सजा पर रोक लगा दी।

Reported by: Kanak Kumari
Imran Khan Bushra Bibi
इमरान खान और बुशरा बीबी की 14 साल की सजा सस्पेंड | Image:Social Media
Advertisement

पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान और उनकी पत्नी बुशरा बीवी को तोशाखाना मामले में 14 साल की जेल की सजा सुनाई गई थी। हालांकि, अब इस मामले में अब इस्लामाबाद हाई कोर्ट से बड़ी राहत मिली है। हाई कोर्ट ने दोनों की 14 साल की सजा सस्पेंड कर दी है।

तोशाखान मामले में पूर्व पीएम इमरान खान और उनकी पत्नी को 31 जनवरी 2024 को 14-14 साल की सजा सुनाई गई थी। इसके बाद खान ने इस्लामाबाद हाई कोर्ट में कोर्ट के फैसले को चुनौती दी थी। चीफ जस्टिस आमिर फारूक के नेतृत्व वाली 2 सदस्यीय टीम ने सुनवाई कर फैसला सुनाया है। हालांकि, कोर्ट ने कहा है कि खान की याचिका पर ईद की छुट्टी के बाद सुनवाई की जाएगी। 

Advertisement

जेल से नहीं हो सकती इमरान खान की रिहाई

बता दें, जो 14 साल की सजा को सस्पेंड किया गया है, वो केवल एक ही मामले में किया गया है। इमरान खान अन्य मामलों में वो अभी भी दोषी हैं, और संभव है कि उन्हें अभी जेल से रिहा ना किया जाए। वहीं बुशरा बीवी भी अन्य मामलों की दोषी हैं, जिस वजह से उन्हें भी रिहाई नहीं मिल सकती है।

Advertisement

सरकारी तोहफे अपने पास रखने का आरोप

तोशाखाना भ्रष्टाचार मामले में, पीटीआई चीफ इमरान खान पर पाकिस्तान के प्रधानमंत्री के तौर पर अपने कार्यकाल के दौरान मिले महंगे सरकारी उपहारों को अपने पास रखने का आरोप है। तोशाखाना संबंधी नियमों के तहत सरकारी अधिकारी कीमत चुकाकर उपहार रख सकते हैं लेकिन पहले उपहार तोशाखाना में जमा किया जाना चाहिए। खान और उनकी पत्नी या तो उपहार जमा करने में विफल रहे या कथित तौर पर अपने अधिकार का उपयोग करके इसे कम कीमत पर हासिल किया।

Advertisement

इससे पहले 30 जनवरी, को सिफर मामले में 10 साल की सजा सुनाये जाने के एक दिन बाद तोशाखाना मामले में खान को दोषी ठहराया गया था। इससे पहले, उन्हें अगस्त 2023 में तोशाखाना के एक अलग मामले में भी दोषी ठहराया गया था, जिसके कारण उन्हें गिरफ्तार किया गया था। नवीनतम दोषसिद्धि प्रधानमंत्री के रूप में अपने कार्यकाल के दौरान उन्हें या उनके जीवनसाथी को मिले उपहारों को रखने के लिए अपने अधिकार का दुरुपयोग करने के आरोप पर आधारित थी। यह राष्ट्रीय जवाबदेही ब्यूरो द्वारा दायर किया गया था। अप्रैल 2022 में सत्ता गंवाने के बाद से खान को अब तक चार अलग-अलग मामलों में दोषी ठहराया गया है। उन्हें तोशाखाना के दोनों मामलों में जमानत मिल गई है।

इसे भी पढ़ें: इजरायल में अल जजीरा पर लगा बैन, PM नेतन्याहू ने कतर की मीडिया को नरसंहार में शामिल बताया

Advertisement

Published April 2nd, 2024 at 09:16 IST

आपकी आवाज. अब डायरेक्ट.

अपने विचार हमें भेजें, हम उन्हें प्रकाशित करेंगे। यह खंड मॉडरेट किया गया है।

Advertisement

न्यूज़रूम से लेटेस्ट

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Whatsapp logo