Advertisement

Updated April 2nd, 2024 at 22:53 IST

पूर्वी लद्दाख पर बोले रक्षामंत्री राजनाथ सिंह, सैनिकों की वापसी; तनाव में कमी आगे बढ़ने का रास्ता

राजनाथ सिंह ने मंगलवार को कहा कि भारतीय सैनिक ''दृढ़ता'' से तैनात हैं और मामले के शांतिपूर्ण हल के लिए दोनों पक्षों के बीच बातचीत जारी रहेगी।

Reported by: Digital Desk
Edited by: Deepak Gupta
Defence Minister Rajnath Singh
Defence Minister Rajnath Singh | Image:PTI
Advertisement

Rajnjath Singh : पूर्वी लद्दाख में भारत-चीन के बीच सैन्य टकराव जारी रहने के बीच रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने मंगलवार को कहा कि भारतीय सैनिक ''दृढ़ता'' से तैनात हैं और मामले के शांतिपूर्ण हल के लिए दोनों पक्षों के बीच बातचीत जारी रहेगी क्योंकि सैनिकों की वापसी और तनाव में कमी ही आगे बढ़ने का रास्ता है।

थल सेना के शीर्ष कमांडरों को संबोधित करते हुए सिंह ने देश में "सबसे भरोसेमंद और प्रेरक" संगठनों में से एक के प्रति देश के करोड़ों नागरिकों के भरोसे की पुष्टि की। सेना के कमांडरों ने चीन और पाकिस्तान की सीमाओं पर राष्ट्रीय सुरक्षा से जुड़ी चुनौतियों और बल की समग्र युद्ध क्षमता को बढ़ावा देने के तरीकों पर गहन विचार-विमर्श किया।

Advertisement

रक्षा मंत्री सेना नेतृत्व की सराहना की

रक्षा मंत्री ने देश की "रक्षा और सुरक्षा" दृष्टि को सफलतापूर्वक नयी ऊंचाइयों तक पहुंचाने के लिए सेना नेतृत्व की सराहना की और कहा कि राष्ट्र निर्माण में बल की भूमिका अहम है। सिंह ने अपने संबोधन में सीमा सड़क संगठन (बीआरओ) की भी प्रशंसा की और कहा कि इसके प्रयासों से पश्चिमी और उत्तरी सीमाओं पर सड़क संचार में "व्यापक सुधार" हुआ है।

Advertisement

रक्षा मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि उत्तरी सीमाओं की मौजूदा स्थिति के संबंध में सिंह ने पूरा विश्वास जताया कि सैनिक दृढ़ता से तैनात हैं और शांतिपूर्ण समाधान के लिए चल रही बातचीत जारी रहेगी तथा सैनिकों की वापसी और तनाव कम करना ही आगे का रास्ता है। भारतीय और चीनी सैनिकों के बीच पूर्वी लद्दाख में कुछ स्थानों पर लगभग चार साल से गतिरोध बना हुआ है, हालांकि दोनों पक्षों ने व्यापक राजनयिक और सैन्य वार्ता के बाद कई क्षेत्रों से सैनिकों की वापसी पूरी कर ली है।

रक्षा मंत्री ने सीमा पार आतंकवाद के खिलाफ सेना की कार्रवाई की सराहना की

Advertisement

पाकिस्तान के साथ लगी सीमा पर की स्थिति का जिक्र करते हुए, रक्षा मंत्री सिंह ने सीमा पार आतंकवाद के खिलाफ सेना की कार्रवाई की सराहना की, और कहा कि "शत्रु" द्वारा छद्म युद्ध जारी है।

राजनाथ सिंह ने जम्मू-कश्मीर में आतंकवाद से निपटने में केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बलों, स्थानीय पुलिस और सेना के बीच "उत्कृष्ट तालमेल" की भी सराहना की। उन्होंने कहा, "केंद्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर में समन्वित अभियान से क्षेत्र में स्थिरता बढ़ाने में मदद मिली है और इसे जारी रहना चाहिए।"

Advertisement

'हाइब्रिड युद्ध सहित गैर-परंपरागत युद्ध भविष्य में पारंपरिक युद्धों का हिस्सा होंगे'

दुनिया की जटिल स्थिति को रेखांकित करते हुए सिंह ने कहा कि यह वैश्विक स्तर पर हर किसी को प्रभावित करता है। उन्होंने कहा, "हाइब्रिड युद्ध सहित गैर-परंपरागत युद्ध भविष्य में पारंपरिक युद्धों का हिस्सा होंगे। साइबर, सूचना, संचार, व्यापार और वित्त भविष्य के टकरावों का एक अभिन्न हिस्सा बन गए हैं।"

Advertisement

उन्होंने कहा, "यह जरूरी है कि सशस्त्र बलों को अपनी योजना बनाते और रणनीति तैयार करते समय इन सभी पहलुओं को ध्यान में रखना होगा।"

राष्ट्रीय विकास में भारतीय सेना की भूमिका महत्वपूर्ण- राजनाथ सिंह

Advertisement

राजनाथ सिंह ने हर जरूरत के समय नागरिक प्रशासन को सहायता प्रदान करने के अलावा, देश की सीमाओं की रक्षा करने और आतंकवाद से लड़ने में सेना द्वारा निभाई गई बेहतरीन भूमिका को रेखांकित किया। उन्होंने कहा, "सेना सुरक्षा, मानवीय सहायता और आपदा के समय राहत, चिकित्सा सहायता से लेकर देश में स्थिर आंतरिक स्थिति बनाए रखने तक हर क्षेत्र में मौजूद है...राष्ट्र निर्माण के साथ ही समग्र राष्ट्रीय विकास में भी भारतीय सेना की भूमिका महत्वपूर्ण है।"

राजनाथ सिंह ने मातृभूमि की रक्षा के लिए सर्वोच्च बलिदान देने वाले सभी वीरों को श्रद्धांजलि अर्पित की। सेना कमांडरों का सम्मेलन शीर्ष स्तरीय द्विवार्षिक कार्यक्रम है जो हर साल अप्रैल और अक्टूबर में आयोजित किया जाता है।

Advertisement

इसे भी पढ़ें : 'दिल्ली शराब घोटाले के किंगपिन हैं अरविंद केजरीवाल', ED का जवाब

Advertisement

(Note: इस भाषा कॉपी में हेडलाइन के अलावा कोई बदलाव नहीं किया गया है)

Published April 2nd, 2024 at 22:53 IST

आपकी आवाज. अब डायरेक्ट.

अपने विचार हमें भेजें, हम उन्हें प्रकाशित करेंगे। यह खंड मॉडरेट किया गया है।

Advertisement

न्यूज़रूम से लेटेस्ट

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Whatsapp logo