Advertisement

Updated April 3rd, 2024 at 14:17 IST

घड़ी चिह्न: न्यायालय ने अजित पवार की NCP से उसके आदेश के बाद जारी विज्ञापनों के ब्योरे मांगे

अजित पवार के नेतृत्व वाली राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) से उसके आदेश के अनुपालन में जारी किये गये समाचार पत्रों के विज्ञापनों का ब्योरा देने को कहा।

Reported by: Digital Desk
Edited by: Nidhi Mudgill
ajit pawar
अजित पवार | Image:pti
Advertisement

उच्चतम न्यायालय ने अजित पवार के नेतृत्व वाली राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) से उसके आदेश के अनुपालन में जारी किये गये समाचार पत्रों के विज्ञापनों का ब्योरा देने को कहा। न्यायालय ने अपने आदेश में रांकापा के इस धड़े को इस सूचना (डिस्क्लेमर) के साथ प्रचार करने का निर्देश दिया था कि उसे ‘घड़ी’ चुनाव चिह्न आवंटन का मामला न्यायालय में विचाराधीन है।

न्यायमूर्ति सूर्यकांत और न्यायमूर्ति केवी विश्वनाथन की पीठ ने महाराष्ट्र के उप मुख्यमंत्री अजित पवार के नेतृत्व वाले धड़े की ओर से पेश वरिष्ठ अधिवक्ता मुकुल रोहतगी से जारी विज्ञापनों का विवरण देने को कहा। दरअसल शरद पवार ने आरोप लगाया था कि अजित पवार गुट अदालत के 19 मार्च के आदेश का अनुपालन नहीं कर रहा है।

Advertisement

इस पर पीठ ने कहा, ‘‘रोहतगी, आप इस संबंध में विवरण लीजिए कि इस आदेश के बाद कितने विज्ञापन जारी हुए। हमें इस पर फैसला करना पड़ेगा कि क्या वह (अजित पवार) इस प्रकार का बर्ताव कर रहे हैं। जानबूझकर हमारे आदेश में गफ़लत करने का अधिकार किसी को नहीं है।’’

शरद पवार की ओर से पेश वरिष्ठ अधिवक्ता अभिषेक सिंघवी ने कहा कि 19 मार्च को इस अदालत ने एक आदेश पारित किया था जिसमें उनसे (अजित पवार धड़े से) अखबारों में यह विज्ञापन जारी करने को कहा गया था कि ‘घड़ी’ चुनाव चिह्न आवंटन का मुद्दा अदालत में विचाराधीन है और इस चिह्न का उपयोग फैसले के आधार पर होगा।

Advertisement

न्यायालय ने महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री अजित पवार नीत पार्टी के धड़े से अंग्रेजी, हिंदी और मराठी में अखबारों में यह सार्वजनिक नोटिस जारी करने को कहा कि ‘घड़ी’ चुनाव चिह्न आवंटन का मुद्दा अदालत में विचाराधीन है और इस चिह्न का उपयोग फैसले के आधार पर होगा।

Advertisement

(Note: इस भाषा कॉपी में हेडलाइन के अलावा कोई बदलाव नहीं किया गया है)

Published April 3rd, 2024 at 14:17 IST

आपकी आवाज. अब डायरेक्ट.

अपने विचार हमें भेजें, हम उन्हें प्रकाशित करेंगे। यह खंड मॉडरेट किया गया है।

Advertisement

न्यूज़रूम से लेटेस्ट

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Whatsapp logo