Advertisement

Updated June 6th, 2024 at 14:55 IST

हजयात्रियों को इस बार करना पड़ेगा भीषण गर्मी का सामना

मक्का के सबसे गर्म महीने में ही इस बार हज यात्रा भी आयोजित हो रही है और ऐसे में लाखों हज यात्रियों को लू लगने का खतरा है।

Hajj
हज | Image:PTI
Advertisement

मक्का के सबसे गर्म महीने में ही इस बार हज यात्रा भी आयोजित हो रही है और ऐसे में लाखों हज यात्रियों को लू लगने का खतरा है। सबसे अधिक खतरा बुजुर्ग हजयात्रियों और पुरानी बीमारियों से पीड़ित लोगों को है।

इस महीने लाखों मुसलमान हज यात्रा करने वाले हैं, लेकिन मक्का में भीषण गर्मी के कारण हजयात्रियों में गर्मी से संबंधित बीमारियों के बढ़ने की आशंका बढ़ गई है।

Advertisement

दुनिया भर से 20 लाख से अधिक मुसलमान हज के लिए यहां आते हैं। इस साल वार्षिक हजयात्रा 14 जून से 19 जून के बीच छह दिनों तक चलने की उम्मीद है।

मक्का में इस दौरान तापमान 50 डिग्री सेल्सियस के पार जा सकता है। इसकी वजह से हजयात्रियों, विशेष रूप से वृद्धों और विभिन्न बीमारियों से पहले से ही पीड़ित लोगों के स्वास्थ्य को खतरा पैदा हो सकता है।

Advertisement

पिछले साल हज यात्रा के दौरान 2,000 से अधिक हजयात्रियों पर गर्मी का असर पड़ा था। औद्योगिक काल से पहले की तुलना में वैश्विक तापमान में 1.5 डिग्री सेल्सियस की वृद्धि होने से हाजियों को लू लगने का जोखिम पांच गुना बढ़ गया था।

सऊदी अरब सरकार तीर्थयात्रियों की सुविधा और भीषण गर्मी से राहत के लिए अत्यधिक गर्मी को कम करने के मकसद से क्लाउड सीडिंग जैसी उन्नत वर्षा वृद्धि तकनीकों का उपयोग करने की नई रणनीतियों पर विचार कर रही है।

Advertisement

गर्मी के प्रभावों को कम करने के लिए अन्य कदमों में मुफ्त पानी, मिस्टिंग स्टेशन (तापमान को कम करने की व्यवस्था जो खुले स्थानों को ठंडा रखती है) और अच्छी स्वास्थ्य सेवा सुविधाएं प्रदान करना शामिल है। यह अभियान तीर्थयात्रियों को हल्के कपड़े पहनने, पर्याप्त मात्रा में पानी पीने और दिन के समय की गतिविधियों को सीमित करने के लिए प्रोत्साहित करेंगे।

हज यात्रा उन सभी वयस्क मुसलमानों के लिए अनिवार्य होती है जो आर्थिक और शारीरिक रूप से कम से कम एक बार हज करने में सक्षम हैं। यह इस्लाम का पांचवां स्तंभ है और इस्लामी आस्था और एकता की सबसे महत्वपूर्ण अभिव्यक्ति है। यह अपनी तरह की सबसे बड़ी तीर्थयात्रा है जिसमें लोग एक छोटे और भौगोलिक रूप से सीमित क्षेत्र में बेहद गर्म और शुष्क मौसम में इकट्ठा होते हैं।

Advertisement

हज के लिए पवित्र स्थल पर आने वाले वृद्ध हजयात्रियों और मधुमेह एवं हृदय रोग जैसी पुरानी बीमारियों से पीड़ित लोगों को गर्मी से संबंधित बीमारियां होने का जोखिम अधिक होता है। इसके अतिरिक्त वे भारी सामान भी उठाते हैं, दोपहर में बाहर जाते हैं और दिन में कई बार मस्जिद अल-हरम जाते हैं, जिससे उन्हें मक्का की गर्मी और उमस से उत्पन्न होने वाले स्वास्थ्य संबंधी खतरों का सामना करना पड़ सकता है।

अत्यधिक गर्मी के संपर्क में आने से कई तरह की बीमारियां होती हैं।

Advertisement

सऊदी हजयात्रियों के बीच किए गए एक अध्ययन में पाया गया कि 18.4 प्रतिशत लोगों में पुरानी स्वास्थ्य समस्याएं हैं। इनमें मधुमेह सबसे अधिक (55.7 प्रतिशत), उसके बाद उच्च रक्तचाप (60.7 प्रतिशत), हृदय रोग (7.5 प्रतिशत) और दमा (11.5 प्रतिशत) थे।

तीर्थयात्री विविध पृष्ठभूमि और अलग-अलग देशों से आते हैं। कुछ तीर्थयात्री गर्म उष्णकटिबंधीय देशों से आते हैं और गर्म मौसम में बेहतर ढंग से समायोजित हो सकते हैं, जबकि ठंडी जलवायु वाले देशों के तीर्थयात्री मक्का की अत्यधिक गर्मी को सहन नहीं कर पाते।

Advertisement

पहले मक्का की यात्रा कर चुके हजयात्री अपने पूर्व ज्ञान और अनुभव के आधार पर गर्मी से संबंधित जोखिमों का बेहतर प्रबंधन करने में सक्षम होते हैं।

मलेशिया, इंडोनेशिया और पाकिस्तान में दुनिया भर के हज अधिकारियों और स्वास्थ्य अधिकारियों ने तीर्थयात्रियों को लू की रोकथाम के बारे में शिक्षित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। जागरूकता और निवारक उपायों को लागू करने से सभी के लिए एक सुरक्षित और सुखद हजयात्रा सुनिश्चित की जा सकती है।

Advertisement

Published June 6th, 2024 at 14:55 IST

आपकी आवाज. अब डायरेक्ट.

अपने विचार हमें भेजें, हम उन्हें प्रकाशित करेंगे। यह खंड मॉडरेट किया गया है।

Advertisement

न्यूज़रूम से लेटेस्ट

1 दिन पहलेे
1 दिन पहलेे
3 दिन पहलेे
6 दिन पहलेे
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Whatsapp logo