Advertisement

Updated June 12th, 2024 at 00:00 IST

रियासी हमला: बस मालिक ने चालक व परिचालक के लिए शहीद का दर्जा मांगा

जम्मू-कश्मीर: रियासी में आतंकवादियों के हमला का शिकार हुई निजी बस के मालिक सुजान सिंह ने चालक विजय कुमार और परिचालक अरुण कुमार को शहीद का दर्जा देने की मांग की।

Bodies of 4 Killed in J-K's Reasi Terror Attack Arrive in Jaipur Amid Chorus for Justice
रियासी आतंकी हमला | Image:PTI
Advertisement

जम्मू-कश्मीर के रियासी में आतंकवादियों के हमला का शिकार हुई निजी बस के मालिक सुजान सिंह ने चालक विजय कुमार और परिचालक अरुण कुमार को शहीद का दर्जा देने की मांग की है क्योंकि उन्होंने गोलियों की बौछार से बचने के लिए वाहन को खाई में गिराकर बड़ी आपदा से बचा लिया।

सिंह ने पीड़ितों के गरीब परिवारों की देखभाल की आवश्यकता पर भी प्रकाश डाला। उन्होंने कहा कि मंदिर में भारी संख्या में तीर्थयात्रियों के आगमन को देखते हुए शिव खोरी मार्ग पर कड़ी सुरक्षा जरूरी है। यह मंदिर माता वैष्णो देवी मंदिर से 80 किलोमीटर से ज्यादा दूर है।

Advertisement

आतंकवादियों ने श्रद्धालुओं को शिव खोरी मंदिर से कटरा में माता वैष्णो देवी मंदिर ले जा रही 53 सीट वाली बस पर पोनी इलाके में तेरयाथ गांव के पास रविवार को गोलीबारी कर दी थी। हमले के बाद बस खाई में जा गिरी थी।

वाहन में उत्तर प्रदेश, राजस्थान और दिल्ली के श्रद्धालु सवार थे। हमले में दो साल के बच्चे समेत नौ लोगों की मौत हो गई थी और 41 लोग जख्मी हो गए थे।

Advertisement

विजय कुमार (40) और अरुण कुमार (19) के शवों का सोमवार को उनके संबंधित गांवों दसानू-राजबाग और कंडेरा-कटरा में सोमवार को अंतिम संस्कार किया गया।

सिंह ने कटरा में ‘पीटीआई-भाषा’ से कहा कि विजय उनके लिए परिवार की तरह थे और वह हमेशा मुस्कुराते रहते थे।

Advertisement

सिंह ने कहा कि विजय उनके साथ लगभग छह साल से काम कर रहे थे और उनका मानना ​है कि विजय ने जानबूझकर गाड़ी को खाई में गिरा दिया ताकि आतंकवादी उसमें सवार लोगों को मार न सकें।

अधिकारियों और प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार, सबसे पहले गोली चालक को लगी।

Advertisement

जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने पहले ही मृतकों के परिजनों को 10-10 लाख रुपये और घायलों को 50-50 हजार रुपये की अनुग्रह राशि देने की घोषणा की है।

Advertisement

Published June 12th, 2024 at 00:00 IST

आपकी आवाज. अब डायरेक्ट.

अपने विचार हमें भेजें, हम उन्हें प्रकाशित करेंगे। यह खंड मॉडरेट किया गया है।

Advertisement

न्यूज़रूम से लेटेस्ट

1 दिन पहलेे
1 दिन पहलेे
3 दिन पहलेे
6 दिन पहलेे
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Whatsapp logo