Advertisement

Updated March 5th, 2024 at 10:11 IST

राजस्थान पेपर लीक मामले में भजनलाल सरकार का एक्शन, SOG ने 15 SI को हिरासत में लिया

Rajasthan Paper Leak Case: राजस्थान पेपर लीक केस में भजनलाल सरकार ने बड़ा एक्शन लिया है। SOG ने 15 प्रशिक्षु सब इंस्पेक्टर को हिरासत में लिया है।

Reported by: Kanak Kumari
Raj CM Bhajan Lal Sharma
राजस्थान सीएम भजनलाल शर्मा | Image:ANI
Advertisement

Rajasthan Paper Leak Case Update: राजस्थान पेपर लीक केस में भजनलाल सरकार ने बड़ा एक्शन लिया है। SOG ने 15 प्रशिक्षु सब इंस्पेक्टर को हिरासत में लिया है। ये कार्रवाई SI पेपर प्रकरण की जांच के तहत की गई है। पेपर लीक कर पास हुए 15 सब इंस्पेक्टर को  पकड़ा गया है। ये सभी 15 प्रशिक्षु SI आरपीए में ट्रेनिंग ले रहे थे। हिरासत में लिए गए सभी लोगों से SOG मुख्यालय में पूछताछ जारी है। 

एसओजी ने पुलिस के 15 सब इसंपेक्टर को गिरफ्तार कर खुलासा किया कि 2021 में सब इंसपेक्टर भर्ती परीक्षा का पेपर लीक हुआ था। नकल से और डमी कैंडिडेट से परीक्षा देकर सब इसंपेक्टर बन गए थे। एसओजी ने राजस्थान पुलिस अकादमी में छापेमारी की और ट्रेनिंग ले रहे इन 15 सब इसंपेक्टर को पकड़ा। इनमें से 12 को जयपुर में पुलिस अकादमी से, एक को किशनगढ़, एक को साचौर के भीनमाल और एक को बाड़मेर के  गुढामलानी से हिरासत में लिया गया।

Advertisement

परीक्षा में डमी उम्मीदवारों के बैठने की आशंका 

राज्य पुलिस के एटीएस और एसओजी के एडीजी वी. के. सिंह ने कहा कि राजस्थान लोक सेवा आयोग ने 2021 में उप-निरीक्षर और प्लाटून कमांडर भर्ती परीक्षा आयोजित की थी। मामले में एक पुलिस अधिकारी ने कहा, “यह जानकारी मिलने के बाद प्राथमिकी दर्ज कराई गई कि एक आपराधिक गिरोह ने प्रश्न पत्र लीक किया और कुछ उम्मीदवारों की भर्ती कराई। पंद्रह संदिग्ध प्रशिक्षुओं को पूछताछ के लिए एसओजी मुख्यालय लाया गया है।” जांच एजेंसी को यह संदेह भी है कि परीक्षा से पहले प्रश्न पत्र प्राप्त करने के अलावा, कुछ ऐसे अभ्यर्थियों के लिए डमी उम्मीदवारों की व्यवस्था की गई थी, जिनमें स्वयं परीक्षा देने की योग्यता नहीं थी।

Advertisement

ताबड़तोड़ एक्शन में भजनलाल सरकार

राजस्थान में लचीली शिक्षा व्यवस्था को तंदुरूस्त करने के लिए भजन लाल सरकार ताबड़तोड़ कार्रवाई कर रही है। हाल ही में राजस्थान के एक स्कूल से धर्मांतरण का मामला सामने आया था। इस मामले में भजनलाल सरकार में शिक्षा मंत्री मदन दिलावर ने तीन शिक्षकों पर शिकंजा कसा था। दो शिक्षकों को निलंबित कर दिया गया, जबकि एक के खिलाफ जांच बैठा दी गई।   
 

Advertisement

इसे भी पढ़ें: दबंगई करने वाले 4.5 अरब डॉलर की मदद नहीं देते... मालदीव के राष्ट्रपति को भारत का मुंहतोड़ जवाब

 

Advertisement

Published March 5th, 2024 at 08:34 IST

आपकी आवाज. अब डायरेक्ट.

अपने विचार हमें भेजें, हम उन्हें प्रकाशित करेंगे। यह खंड मॉडरेट किया गया है।

Advertisement

न्यूज़रूम से लेटेस्ट

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Whatsapp logo