Advertisement

Updated April 4th, 2024 at 16:04 IST

गौरव वल्लभ के पार्टी छोड़ने पर प्रमोद कृष्णम का कांग्रेस पर तीखा हमला, कहा- सनातन का श्राप ले डूबेगा

कांग्रेस नेताओं के पार्टी छोड़ने के लेकर पूर्व कांग्रेस नेता आचार्य प्रमोद कृष्णम ने अपनी पूर्व पार्टी पर निशाना साधा है।

Reported by: Deepak Gupta
Acharya Pramod Krishnam
आचार्य प्रमोद कृष्णम | Image:ani
Advertisement

Pramod Krishnam attack on Congress कांग्रेस पार्टी से नेताओं का जाना लगातार जारी है, कल पार्टी ने संजय निरुपम को 6 साल के लिए निष्कासित किया तो आज पार्टी के प्रवक्ता गौरव वल्लभ ने कांग्रेस से इस्तीफा देकर भाजपा का दामन थाम लिया।

लगातार कांग्रेस नेताओं के पार्टी छोड़ने के लेकर पूर्व कांग्रेस नेता आचार्य प्रमोद कृष्णम ने अपनी पूर्व पार्टी पर निशाना साधा है। सोशल मीडिया एक्स पर उन्होंने राहुल गांधी और मल्लिकार्जुन खड़गे को टैग करते हुए लिखा, मैंने “कहा” था ना, सनातन का “श्राप” ले डूबेगा।

Advertisement

आचार्य प्रमोद कृष्णम का इशारा कांग्रेस में मची भगदड़ को लेकर था। बीते कुछ समय से लगातार कांग्रेस के दिग्गज या तो चुनाव लड़ने से इनकार कर रहे हैं या फिर पार्टी से मोहभंग होने के कारण दूसरी पार्टियों में अपनी राह खोज रहे हैं।

Advertisement

गौरव वल्लभ कांग्रेस छोड़ बीजेपी में शामिल

कांग्रेस के चर्चित प्रवक्ताओं में शामिल गौरव वल्लभ ने लोकसभा चुनावों से ठीक पहले पार्टी को बड़ा झटका दे दिया है। जब लोकसभा चुनाव ठीक सिर पर आ चुके हैं तो कांग्रेस में बिखराव ने जोर पकड़ लिया है। बड़े-बड़े नेता कांग्रेस पार्टी की नाव से कूदकर भाग कर रहे हैं। इसी क्रम में अब गौरव वल्लभ ने कांग्रेस पार्टी के सभी पदों के साथ साथ प्राथमिक सदस्य से भी इस्तीफा दे दिया है।

Advertisement

फाइनेंस के प्रोफेसर गौरव वल्लभ ने कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे को दो पन्नों की चिट्ठी भेजी है, जिसमें उन्होंने अपनी इस्तीफे की भी घोषणा की। गौरव वल्लभ ने आरोप लगाए हैं कि कांग्रेस पार्टी जिस प्रकार से दिशाहीन होकर आगे बढ़ रही है, उसमें वो खुद को सहज महसूस नहीं कर पा रहे थे। प्रोफेसर ने कहा कि वो कांग्रेस पार्टी के सभी पदों और प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा दे रहे हैं।

सनातन विरोधी नहीं हो सकता हूं- गौरव वल्लभ

Advertisement

कांग्रेस छोड़ने के बाद गौरव वल्लभ बीजेपी में शामिल हो गए। दिल्ली के भाजपा कार्यालय में उन्होंने सदस्यता ग्रहण की। इससे पहले कांग्रेस को सनातन विरोधी करार देते हुए पार्टी छोड़ दी थी। मल्लिकार्जुन खड़गे के नाम एक खुला खत लिख अपना दर्द साझा किया था। भाजपा से जुड़ते ही उन्होंने कहा वो सनातन विरोधी नहीं हो सकते।

इसे भी पढ़ें :  कांग्रेस का झंडा बुलंद करने वाले गौरव वल्लभ ने अब थामा BJP का दामन, लोकसभा चुनाव से पहले बड़ा झटका
 

Advertisement

Published April 4th, 2024 at 15:55 IST

आपकी आवाज. अब डायरेक्ट.

अपने विचार हमें भेजें, हम उन्हें प्रकाशित करेंगे। यह खंड मॉडरेट किया गया है।

Advertisement

न्यूज़रूम से लेटेस्ट

1 दिन पहलेे
2 दिन पहलेे
4 दिन पहलेे
4 दिन पहलेे
5 दिन पहलेे
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Whatsapp logo