Advertisement

Updated April 3rd, 2024 at 12:32 IST

PM मोदी पर जातिसूचक टिप्पणी मामले में बुरे फंसे TMC नेता पीयूष पांडा, NCBC ने DGP को लिखा पत्र

TMC नेता पीयूष पांडा ने जनसभा में देश के प्रधानमंत्री पर भद्दा कमेंट किया था। अब इसे लेकर NCBC ने पश्चिम बंगाल DGP को पत्र लिखा है।

Reported by: Rupam Kumari
PM Modi & Piyush Panda
PM मोदी के खिलाफ TMC नेता पीयूष पांडा ने की जातिसूचक टिप्पणी | Image:X
Advertisement

लोकसभा चुनाव की तारीख जैसे-जैसे सामने आ रही है, वैसे-वैसे सभाओं में नेताओं का आरोप-प्रत्यारोप का दौर भी बढ़ता जा रहा है। कुछ नेता तो भाषा की मर्यादा भी भूल जा रहे हैं। भले ही चुनाव आयोग  ने अमर्यादित बयान पर सख्त एक्शन की चेतावनी दी है, बावजूद नेता भाषा पर सयम नहीं रखते हैं। पश्चिम बंगाल में सत्ताधारी TMC के नेता पीयूष पांडा इसका ताजा उदाहरण है। इन्होंने पीएम मोदी को लेकर जाति सूचक टिप्पणी कर नया विवाद खड़ा कर दिया है।

TMC नेता पीयूष पांडा का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। वायरल वीडियो में वो पीएम मोदी के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी करते नजर आ रहे हैं। ये किसी जनसभा को संबोधित कर रहे हैं।  पीएम के खिलाफ अनर्गल बातें बोली जा रही हैं। उनकी जाति को लेकर भद्दा कमेंट किया जा रहा है। उनके कास्ट सर्टिफिकेट को लेकर भी सवाल उठाए हैं। अब इसे लेकर राष्ट्रीय पिछड़ा वर्ग आयोग ने DGP को चिट्ठी लिखी  है।

Advertisement

NCBC ने बंगाल DGP को लिखा पत्र 

राष्ट्रीय पिछड़ा वर्ग आयोग ने टीएमसी नेता पीयूष पांडा द्वारा पीएम मोदी के लिए आपत्तिजनक और जातिसूचक शब्दों का इस्तेमाल करने पर पश्चिम बंगाल के डीजीपी को पत्र लिखा है। चिट्ठी में लिखा है, भारत के प्रधानमंत्री पद पर बैठे हुए पिछड़े वर्ग के व्यक्ति पर की गई अपमानजनक टिप्पणी को लेकर पिछड़ा वर्ग आयोग के अध्यक्ष हंसराज गंगाराम अहीर ने गंभीरता से लेते हुए जांच करने का निर्णय लिया है। पीयूष पांडा के खिलाफ पिछले तीन दिन के भीतर की गई कार्रवाई का ब्यौरा उपलब्ध कराई जाए।

Advertisement

BJP ने EC से की थी एक्शन की मांग

इसे ओबीसी समाज का अपमान बताते हुए भाजपा ने पहले ही EC में इसकी शिकायत दर्ज कराई थी।वायरल वीडियो में पियूष पांडा कह रहे हैं- नरेन्द्र मोदी अहंकारी हैं, वह तेली (जाति) के बेटे हैं, वह राम मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा और पूजा कैसे कर सकते हैं जहाँ किसी ब्राम्हण को नहीं बुलाया गया। फिर ब्राम्हणों का क्या काम है, मैं अपना जनेऊ प्रधानमंत्री कार्यालय भेज दूँगा। मैं कोंटई बस स्टैंड पर बैठ का जूते पॉलिश करूँगा।इतना ही नहीं पांडा ने पीएम ksजन्म प्रमाण पत्र और शिक्षा को लेकर भी सवाल खड़े किए। 

यह भी पढ़ें: शराब घोटाले मामले में केजरीवाल की याचिका पर कोर्ट में सुनवाई होगी

Advertisement

Published April 3rd, 2024 at 09:15 IST

आपकी आवाज. अब डायरेक्ट.

अपने विचार हमें भेजें, हम उन्हें प्रकाशित करेंगे। यह खंड मॉडरेट किया गया है।

Advertisement

न्यूज़रूम से लेटेस्ट

1 दिन पहलेे
2 दिन पहलेे
4 दिन पहलेे
4 दिन पहलेे
5 दिन पहलेे
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Whatsapp logo