Advertisement

Updated June 9th, 2024 at 22:40 IST

Modi 3.O Cabinet: पहली बार लोकसभा के लिए चुने गए पीयूष गोयल फिर बने केंद्रीय मंत्री

मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल अहम मंत्रालयों का प्रभार संभाल चुके पीयूष गोयल मुंबई उत्तर सीट से भारी मतों के अंतर से 2024 में पहली बार लोकसभा के लिए चुने गए।

Piyush Goyal
पीयूष गोयल | Image:X
Advertisement

केंद्र में नरेन्द्र मोदी नीत सरकार के दूसरे कार्यकाल में वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री रहे और अहम मंत्रालयों का प्रभार संभाल चुके भाजपा नेता पीयूष गोयल मुंबई उत्तर सीट से भारी मतों के अंतर से 2024 में पहली बार लोकसभा के लिए चुने गए।

गोयल 2010 से राज्यसभा के सदस्य रहे हैं। उन्होंने संसद के उच्च सदन में विभिन्न मुद्दों पर चर्चा के दौरान कई मौकों पर सरकार की स्थिति को स्पष्ट रूप से व्यक्त किया।

Advertisement

पेशे से चार्टर्ड एकाउंटेंड और एलएलबी की डिग्री रखने वाले पीयूष गोयल (59) भले ही एक राजनीतिक परिवार से आते हो लेकिन उन्होंने एक केंद्रीय मंत्री के तौर पर अपने बेहतरीन काम और अपनी मृदुभाषा के कारण अपने मित्रों ही नहीं, बल्कि राजनीतिक विरोधियों के बीच भी सम्मान अर्जित किया है।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में पिछली दो सरकारों में विभिन्न समयों पर उद्योग एवं वाणिज्य मंत्रालय, रेल मंत्रालय, उपभोक्ता मामलों के मंत्रालय, कोयला मंत्रालय, खनन मंत्रालय, नवीनीकृत एवं अक्षय ऊर्जा मंत्रालय के साथ साथ कुछ समय के लिए वित्त मंत्रालय का प्रभार भी संभाला था।

Advertisement

रेल मंत्री के तौर पर गोयल का कार्यकाल काफी महत्वपूर्ण रहा क्योंकि इस दौरान देश भर के रेल नेटवर्क को मजबूत करने तथा उन्नत प्रौद्योगिकी की मदद से उनका उन्नयन करने तथा वंदे भारत जैसी ट्रेनों को बढ़ावा देने में इनकी पहल को काफी सराहा गया।

गोयल की मंत्री के तौर पर कार्य करने की शैली, उनकी मृदुभाषा और मित्रतापूर्ण स्वभाव के चलते ही भाजपा ने 2021 में उन्हें संसद के उच्च सदन राज्यसभा में सदन के नेता का एक बड़ा दायित्व सौंपा।

Advertisement

गोयल ने राजनीति में आने के बाद खुद को सफल प्रशासक साबित किया। गोयल ने 2024 में पहली बार लोकसभा चुनाव लड़ा। उनकी पार्टी ने उन्हें मुंबई उत्तर संसदीय सीट से उतारा। इससे पहले जुलाई 2022 में वह तीसरी बार निर्वाचित होकर उच्च सदन में पहुंचे थे।।

मुंबई में 13 जून 1964 को जन्मे पीयूष एक राजनीतिक परिवार से ताल्लुक रखते हैं। उनके पिता दिवंगत वेद प्रकाश गोयल भी अटल बिहारी वाजपेयी सरकार में 2001 से 2003 तक केंद्रीय जहाजरानी मंत्री रहे। इसके अलावा वह करीब दो दशक तक भाजपा के राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष भी रहे। पीयूष की मां चंद्रकांता गोयल मुंबई से तीन बार महाराष्ट्र विधानसभा में चुनी गईं।

Advertisement

गोयल अपने पिता के नक्शेकदम पर चलते हुए 1984 में भाजपा में शामिल हुए और उन्होंने भी पार्टी के राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष की भूमिका निभाई। उन्होंने भारतीय स्टेट बैंक और बैंक ऑफ बड़ौदा के बोर्ड में सरकारी उम्मीदवार के तौर पर भी सेवाएं दीं। भाजपा ने साल 2014 के चुनाव के दौरान गोयल को पार्टी के विज्ञापन और सोशल मीडिया प्रचार की जिम्मेदारी दी थी जिसे उन्होंने बखूबी निभाया। गोयल जुलाई 2010 में पहली बार और जुलाई 2016 में दूसरी बार राज्यसभा सदस्य बने।

गोयल ने राज्यसभा में अपनी किशोरावस्था का पूर्व प्रधानमंत्री दिवंगत अटल बिहारी वाजपेयी से जुड़ा एक प्रसंग उच्च सदन में सुनाया था। उन्होंने बताया कि वाजपेयी एक बार महाराष्ट्र में चुनाव प्रचार के लिए मुंबई पहुंचे तो उनका स्वागत करने के लिए वह कुर्ता-पायजामा पहने हवाई अड्डे पर पहुंचे।

Advertisement

उन्होंने बताया कि वाजपेयी ने जब उन्हें अपने साथ हेलीकाप्टर में चलने को कहा तो वह तुरंत तैयार हो गये। उनके अनुसार वह अगले तीन-चार दिन वाजपेयी के साथ जगह-जगह जाते रहे। इस बीच, उन्होंने जब वाजपेयी को बताया कि वह जो कुर्ता-पायजामा पहने हुए हैं, उसके अलावा उनके पास कोई कपड़ा नहीं है।

गोयल के अनुसार यह बात सुनकर वाजपेयी काफी हंसे और उन्होंने एक नया कुर्ता-पायजामा मंगवा कर किशोर पीयूष को दिया।

Advertisement

Published June 9th, 2024 at 22:40 IST

आपकी आवाज. अब डायरेक्ट.

अपने विचार हमें भेजें, हम उन्हें प्रकाशित करेंगे। यह खंड मॉडरेट किया गया है।

Advertisement

न्यूज़रूम से लेटेस्ट

2 दिन पहलेे
3 दिन पहलेे
4 दिन पहलेे
7 दिन पहलेे
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Whatsapp logo