Advertisement

Updated May 15th, 2024 at 11:46 IST

फर्जी वीडियो मामले में मनीष कश्यप की बड़ी जीत, कोर्ट ने सबूतों के अभाव में किया बरी

फेक वीडियो मामले में मनीष कश्यप को पटना सिविल कोर्ट ने बड़ी जीत दी है। कोर्ट ने सबूतों के अभाव में कश्यप को बरी कर दिया है।

Reported by: Kanak Kumari
Manish Kashyap
मनीष कश्यप फेक वीडियो केस में बरी | Image:Facebook
Advertisement

फेक वीडियो मामले में भारतीय जनता पार्टी के नेता और मशहूर यूट्यूबर मनीष कश्यप को पटना सिविल कोर्ट ने बड़ी जीत दी। कोर्ट ने सबूतों के अभाव में मनीष कश्यप को बरी कर दिया है। बता दें, साल 2023 में फर्जी वीडियो के मामले में बिहार पुलिस के क्राइम ब्रांच ने FIR दर्ज किया था, यहां तक कि उनकी गिरफ्तारी भी हुई और वो तमिलनाडु के जेल तक भी पहुंच गए। बता दें, हाल ही में जेल से रिहा होने के बाद कश्यप भाजपा सांसद मनोज तिवारी की मौजूदगी में पार्टी में शामिल हुए। वहीं केस में बरी होने की जानकारी कश्यप ने अपने सोशल मीडिया हैंडल पर भी दी है।

मनीष कश्यप ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म एक्स पर लिखा, "तामिलनाडु प्रकरण में आर्थिक अपराध इकाई  (EOU)  बिहार ने मेरे ऊपर चार केस किया था और उन चारों केस में मैं बाइज्जत बरी हो गया।। कमाल की बात यह है कि पहली बार बिहार में किसी एक व्यक्ति के खिलाफ चार केस स्पीड ट्रायल में डाले गए और उन चारों केसों में वो व्यक्ति बाइज्जत बरी हो गया।

Advertisement

बदला नहीं बलाव करना है...: मनीष कश्यप

भाजपा नेता कश्यप ने लिखा, "मुझे अब किसी से बदला नहीं लेना है बल्कि बदलाव करना है ताकि अगली बार कोई बेवजह झूठे केस में फंसकर जेल ना जाए।"

Advertisement

अपने आलोचकों को मनीष कश्यप ने दिया मुंहतोड़ जवाब

मनीष कश्यप के खिलाफ जब केस की शुरुआत हुई, तो एक तरफ बिहार की जनता उनके साथ खड़ी थी तो, वहीं कुछ ऐसे लोग भी थे...जो उनके खिलाफ बयानबाजी कर रहे थे। अब अपने ट्रोलरों को मनीष कश्यप ने कहा, "उम्मीद है कि जिन लोगों ने मेरे ख़िलाफ ढोल पीट पीट कर सोशल मीडिया पर मुझे बदनाम करने का प्रयास किया था वे लोग अब एक छोटा हीं वीडियो बनायेंगे या एक पोस्ट जरूर करेंगे और इस केस के बारे में पूरे बिहार तथा देश को जरूर बनाएंगे।"

‘मै फौजी का बेटा हूं चारा चोर का नहीं…’: मनीष कश्यप

2023 के सितंबर में जब मनीष कश्यप को कोर्ट में पेशी के लिए लाया गया था, तो उन्होंने लालू यादव के परिवार पर बरसते हुए कश्यप ने कहा, "हम चारा चोर के बेटा नहीं हैं हम नहीं डरेंगे। मैं फौजी का बेटा हूं किसी कीमत पर झुकूंगा नहीं। सच की आवाज को दबाने की कोशिश की जा रही है मगर वो दबने वाली नहीं है। बिहार के मजदूरों को दूसरे राज्य में पीटा जाता है और उस पर सवाल उठाने वाले लोगों को जेल में बंद कर दिया जाता है।" 

मनीष कश्यप लालू यादव के परिवार पर खूब आग बबूला हुए। उन्होंने कहा कि बिहार में इनके ऊपर केस होना चाहिए। लेकिन बिहार पुलिस में हिम्मत नहीं है। पकड़कर ले आए जो बिहार के मजदूरों को मारा है, बिहार के जेल में डाले। 1700 करोड़ का पुल गिर गया, एक इंजीनियर दबकर मर गया, एक यादव जी दबकर मर गए। समस्तीपुर में एक यादव जी को मार दिया गया। तेजस्वी यादव, यादव की बातक करते हैं ना, मोतिहारी में एक यादव ठेकेदार को मार दिया गया। ये लोग जाति के नाम पर भी क्यों नहीं काम आते हैं। बिहार के मजदूर मार खाते हैं और सरकार देखती है, फिर भी मनीष कश्यप को जेल में डाल देती है। 6 मजदूर फिर से मार खाया। ये हथकड़ी है और ये ईमानदारी आदमी के हाथ में लगा है।

Advertisement

इसे भी पढ़ें: भारत में PAK समर्थकों को CM योगी का दो टूक जवाब, 'भिखारी है पाक...जो समर्थन कर रहे वहीं चले जाएं'

Advertisement

Published May 15th, 2024 at 11:00 IST

आपकी आवाज. अब डायरेक्ट.

अपने विचार हमें भेजें, हम उन्हें प्रकाशित करेंगे। यह खंड मॉडरेट किया गया है।

Advertisement

न्यूज़रूम से लेटेस्ट

20 घंटे पहलेे
1 दिन पहलेे
1 दिन पहलेे
4 दिन पहलेे
4 दिन पहलेे
5 दिन पहलेे
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Whatsapp logo