Advertisement
Whatsapp logo

Updated February 13th, 2024 at 15:42 IST

SC पहुंची NCP की लड़ाई, अजित गुट को असली एनसीपी की मान्यता देने के खिलाफ शरद गुट की याचिका दाखिल

Maharashtra Politics: चुनाव आयोग ने अजित पवार की पार्टी को असली एनसीपी घोषित किया। EC के फैसले के खिलाफ शरद गुट ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल की है।

Reported by: Kanak Kumari
The Rising Sun Wheel and Tractor: Sharad Pawar Mulls Party New Symbol After Losing EC Battle To AjitThe Rising Sun Wheel and Tractor: Sharad Pawar Mulls Party New Symbol After Losing EC Battle To Ajit
अजित पवार बनाम शरद पवार | Image:PTI/File
Advertisement

Maharashtra Politics- NCPvsNCP: चुनाव आयोग ने अजित पवार की पार्टी को असली एनसीपी घोषित किया। EC के फैसले के खिलाफ शरद गुट ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल की है। शरद पवार ने महाराष्ट्र के उप मुख्यमंत्री अजित पवार के नेतृत्व वाली पार्टी को असली राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) के रूप में मान्यता देने के निर्वाचन आयोग के फैसले को चुनौती देते हुए SC में याचिका दायर की। शरद पवार ने यह याचिका वकील अभिषेक जेबराज के माध्यम से 12 फरवरी, सोमवार शाम को अपनी व्यक्तिगत हैसियत से दायर की।

इससे पहले अजित पवार गुट ने वकील अभिकल्प प्रताप सिंह के माध्यम से एक कैविएट दायर की थी ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि अगर शरद गुट सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाता है तो उसके पक्ष में कोई एकतरफा आदेश पारित न किया जाए। निर्वाचन आयोग ने 6 फरवरी को घोषणा की थी कि अजित पवार गुट ही असली राकांपा है। इस घोषणा से पार्टी संस्थापक शरद पवार को बड़ा झटका लगा।

Advertisement

शरद के हाथ से निकली 'घड़ी'

NCP का चुनाव चिन्ह घड़ी है और 6 फरवरी को फैसले के साथ चुनाव आयोग ने एक आदेश में अजित पवार के नेतृत्व वाले गुट को राकांपा का चुनाव चिह्न ‘घड़ी’ भी आवंटित कर दिया। शरद पवार के नेतृत्व वाली राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) ने मंगलवार को कहा कि पूर्व कांग्रेस नेता अशोक चव्हाण का भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) में शामिल होना कोई आश्चर्य की बात नहीं है, लेकिन उसे इस बात का अफसोस है कि ‘‘जिन कुछ नेताओं के पास भाजपा से लड़ने की ताकत और क्षमता है, वे उसके दबाव के आगे झुक रहे हैं।’’ महाराष्ट्र की राजनीति में इन दिनों हलचल काफी तेज है। ऐसा इसलिए क्योंकि कांग्रेस पार्टी से महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री रहे अशोक चव्हाण ने भी पार्टी को छोड़कर भाजपा के साथ हाथ मिला लिया।

Advertisement

बीजेपी में शामिल हुए अशोक चव्हाण

महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री अशोक चव्हाण मंगलवार को भाजपा में शामिल हो गए। इन्होंने 12 फरवरी, सोमवार को कांग्रेस की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा दे दिया था। बीजेपी में शामिल होने से पहले उन्होंने कहा था कि आज दोपहर 12-12:30 के दौरान अपने राजनीतिक करियर की नई शुरूआत करने जा रहा हूं। आज मेरा भाजपा में प्रवेश है। छोड़िए जो हुआ, अब मेरी नई शुरुआत है।

Advertisement

शरद गुट ने भाजपा पर साधा निशाना

अशोक चव्हाण के भाजपा में शामिल होने को लेकर राकांपा (शरदचंद्र पवार) के प्रवक्ता क्लाइड क्रैस्टो ने आदर्श घोटाले की ओर इशारा करते हुए कहा कि चव्हाण उन व्यक्तियों का उदाहरण हैं, जो भाजपा के दबाव के आगे झुक जाते हैं। उन्होंने कहा, ‘‘वे बीजेपी के दबाव के आगे झुक जाते हैं और फिर अंततः भाजपा में शामिल हो जाते हैं।’’

Advertisement

आदर्श घोटाले के कारण चव्हाण को 2010 में मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देना पड़ा था। चव्हाण आदर्श हाउसिंग सोसाइटी घोटाले में आरोपी हैं। दक्षिण मुंबई में 31 मंजिला इस इमारत का निर्माण कथित तौर पर रक्षा मंत्रालय के स्वामित्व वाली भूमि पर उपयुक्त मंजूरी लिए बिना किया गया था। क्रैस्टो ने कहा, "चव्हाण का भाजपा में शामिल होना कोई आश्चर्य की बात नहीं है। कुछ नेता हैं, जिनके पास भाजपा से लड़ने की ताकत और क्षमता है, वे हार मान रहे हैं और उनके दबाव के आगे झुक रहे हैं।"

Advertisement

Published February 13th, 2024 at 15:21 IST

आपकी आवाज. अब डायरेक्ट.

अपने विचार हमें भेजें, हम उन्हें प्रकाशित करेंगे। यह खंड मॉडरेट किया गया है।

Advertisement
Advertisement

न्यूज़रूम से लेटेस्ट

Advertisement
Advertisement