Advertisement

Updated April 2nd, 2024 at 17:52 IST

हाथ जोड़कर अपील करता हूं… राजपूत समाज से गुजरात BJP अध्यक्ष की रूपाला को माफ करने की अपील

रूपाला ने 22 मार्च को राजकोट में एक सभा को संबोधित करते हुए कहा था कि तत्कालीन 'महाराजाओं' ने विदेशी शासकों के साथ-साथ अंग्रेजों के उत्पीड़न के सामने घुटने टेक

Reported by: Digital Desk
Edited by: Sagar Singh
Gujarat BJP President CR Patil
गुजरात BJP अध्यक्ष सीआर पाटिल | Image:X
Advertisement

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की गुजरात इकाई के अध्यक्ष सीआर पाटिल ने मंगलवार को राजपूत समुदाय के सदस्यों से आग्रह किया कि वे केंद्रीय मंत्री और राजकोट लोकसभा सीट से पार्टी के उम्मीदवार परषोत्तम रूपाला को रियासतों के पूर्व शासकों पर उनकी टिप्पणियों के लिए माफ कर दें, जिसे क्षत्रिय समुदाय ने आपत्तिजनक माना है।

पाटिल ने राजपूत या क्षत्रिय समुदाय के सदस्यों को मनाने के लिए मुख्यमंत्री भूपेन्द्र पटेल की उपस्थिति में पार्टी के राजपूत नेताओं के साथ बैठक की, जो टिप्पणियों को लेकर रूपाला से खासे नाराज हैं। बैठक के बाद पाटिल ने राजपूत समुदाय के लोगों से अनुरोध किया कि वे रूपाला को माफ कर दें जो इस मामले में पहले ही तीन बार क्षमा मांग चुके हैं।

Advertisement

ढाई घंटे तक चली बैठक

पाटिल ने करीब ढाई घंटे तक चली बैठक के बाद अपने गांधीनगर आवास पर संवाददाताओं से कहा, ‘‘समाधान निकालने के लिए भाजपा नेता बुधवार की शाम समुदाय की समन्वय समिति के सदस्यों के साथ बैठक करेंगे।’’ पाटिल के आवास पर बैठक में शामिल हुए सत्तारूढ़ भाजपा के नेताओं में आई के जडेजा, भूपेन्द्रसिंह चूडासमा, प्रदीपसिंह जडेजा, किरीटसिंह राणा, बलवंतसिंह राजपूत और जयद्रथसिंह परमार और नवनिर्वाचित राज्यसभा सदस्य केसरीदेव सिंह झाला शामिल थे।

Advertisement

राजपूत समुदाय को मनाने की कोशिश

उन्होंने संवाददाताओं से कहा, ‘‘रूपाला अपनी टिप्पणी के लिए तीन बार माफी मांग चुके हैं, लेकिन राजपूत अब भी नाराज हैं। इसलिए इसका समाधान निकालने के लिए आज हमारे मुख्यमंत्री और पार्टी के राजपूत नेताओं की मौजूदगी में बैठक हुई। हमारी भावना यह है कि चूंकि रूपाला पहले ही माफी मांग चुके हैं, इसलिए समुदाय को उदारता दिखानी चाहिए और उन्हें माफ कर देना चाहिए।’’ पाटिल ने कहा कि बैठक में पार्टी से जुड़े वरिष्ठ राजपूत नेताओं को समुदाय के सदस्यों से संपर्क साधकर उन्हें मनाने को कहा गया है।

Advertisement

‘हाथ जोड़कर अपील करता हूं…’

उन्होंने कहा, ‘‘मैं समुदाय के सदस्यों से हाथ जोड़कर अपील करता हूं कि चूंकि रूपाला माफी मांग चुके हैं, इसलिए अब उन्हें माफ कर देना चाहिए।’’ रूपाला ने 22 मार्च को राजकोट में एक सभा को संबोधित करते हुए कहा था कि तत्कालीन 'महाराजाओं' ने विदेशी शासकों के साथ-साथ अंग्रेजों के उत्पीड़न के सामने घुटने टेक दिए थे। रूपाला ने कहा कि इन महाराजाओं ने उनके साथ रोटी-बेटी का संबंध रखा। गुजरात में क्षत्रिय समुदाय ने रूपाला के बयान पर आपत्ति जताई।

Advertisement

इसके बाद रूपाला ने अपने बयान के लिए माफी मांग ली, लेकिन कई राजपूत नेताओं ने उनकी माफी को स्वीकार नहीं किया और भाजपा से कहा कि उनकी जगह किसी और को उम्मीदवार बनाया जाए, अन्यथा चुनाव में राजपूत मतदाताओं की नाराजगी का सामना करना पड़ सकता है।

ये भी पढ़ें: 'मोदी मौज करने के लिए पैदा नहीं हुआ, पैदा हुआ है...', PM मोदी ने 10 साल के कार्यकाल को बताया ट्रेलर

Advertisement

(Note: इस भाषा कॉपी में हेडलाइन के अलावा कोई बदलाव नहीं किया गया है)

Published April 2nd, 2024 at 17:52 IST

आपकी आवाज. अब डायरेक्ट.

अपने विचार हमें भेजें, हम उन्हें प्रकाशित करेंगे। यह खंड मॉडरेट किया गया है।

Advertisement

न्यूज़रूम से लेटेस्ट

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Whatsapp logo