Advertisement

Updated June 8th, 2024 at 22:16 IST

दिल्ली में पानी पर लड़ाई, आतिशी बोलीं- हिस्से का 1,050 क्यूसेक पानी नहीं छोड़ रहा हरियाणा

दिल्ली की जल मंत्री आतिशी ने शनिवार को आरोप लगाया कि हरियाणा मुनक नहर के माध्यम से दिल्ली को उसके हिस्से का 1,050 क्यूसेक पानी नहीं दे रहा है।

ANI
Atishi | Image:ANI
Advertisement

दिल्ली की जल मंत्री आतिशी ने शनिवार को आरोप लगाया कि हरियाणा मुनक नहर के माध्यम से दिल्ली को उसके हिस्से का 1,050 क्यूसेक पानी नहीं दे रहा है। आतिशी ने एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि गर्मियों के दौरान जब हरियाणा 1,050 क्यूसेक पानी छोड़ता है तो दिल्ली को लगभग 995 क्यूसेक पानी मिलता है।

उन्होंने कहा, ‘‘हालांकि, पिछले एक सप्ताह से दिल्ली को कम पानी मिल रहा है। दिल्ली को एक जून को 924 क्यूसेक, चार जून को 884 क्यूसेक, छह जून को 856 क्यूसेक और सात जून को 840 क्यूसेक पानी मिला। हर साल गर्मियों में वाष्पीकरण के कारण करीब 59 से 60 क्यूसेक पानी की हानि होती है। अगर 840 क्यूसेक पानी दिल्ली पहुंच रहा है तो इसका मतलब है कि हरियाणा मुनक नहर में पानी नहीं छोड़ रहा है।’’

Advertisement

राष्ट्रीय राजधानी जल संकट से जूझ रही है और आतिशी ने हरियाणा को दिल्ली के हिस्से का पानी नहीं छोड़ने के लिए जिम्मेदार ठहराया है। आतिशी ने कहा कि यदि यही स्थिति बरकरार रही तो आने वाले दो दिनों में पूरी दिल्ली को पानी की कमी का सामना करना पड़ेगा।

इससे पहले दिन में, आतिशी ने बवाना में मुनक नहर की दो उप-नहरों का दौरा किया। उन्होंने कहा, ‘‘दिल्ली घरेलू इस्तेमाल के लिए पानी के लिए पूरी तरह यमुना पर निर्भर है। हम अपने घरों में जो पानी इस्तेमाल करते हैं, वह दिल्ली के सात शोधन संयंत्रों से आता है। इन शोधन संयंत्रों में पानी वजीराबाद बैराज और मुनक नहर की दो उप-नहरों से आता है। इन दो उप-नहरों से दिल्ली के सभी सात जल शोधन संयंत्रों में पानी जाता है।’’

Advertisement

उन्होंने कहा कि हरियाणा और दिल्ली के बीच हुए समझौते के अनुसार हरियाणा को मुनक नहर के माध्यम से राष्ट्रीय राजधानी के लिए प्रतिदिन 1,050 क्यूसेक पानी छोड़ना है। मंत्री ने दावा किया कि अभी दिल्ली के कुछ हिस्सों में समस्या है लेकिन अगर हरियाणा सही मात्रा में पानी नहीं छोड़ता है और मुनक नहर से आने वाला पानी कम हो जाता है तो स्थिति और भी गंभीर हो जाएगी और शहर के सभी हिस्सों में पानी की किल्लत हो जाएगी।

आरोपों का जवाब देते हुए भाजपा की दिल्ली इकाई के प्रमुख वीरेंद्र सचदेवा ने आतिशी को हरियाणा सरकार और दिल्ली भाजपा के साथ खुली बहस करने या इस मुद्दे पर सर्वदलीय बैठक बुलाने की चुनौती दी।

Advertisement

यह भी पढ़ें :  नेहरू के बाद तीसरी बार प्रधानमंत्री की शपथ लेंगे नरेंद्र मोदी, कैसा था जवाहर लाल के समय समीकरण?

Advertisement

(Note: इस भाषा कॉपी में हेडलाइन के अलावा कोई बदलाव नहीं किया गया है)

Published June 8th, 2024 at 22:16 IST

आपकी आवाज. अब डायरेक्ट.

अपने विचार हमें भेजें, हम उन्हें प्रकाशित करेंगे। यह खंड मॉडरेट किया गया है।

Advertisement

न्यूज़रूम से लेटेस्ट

1 दिन पहलेे
1 दिन पहलेे
3 दिन पहलेे
6 दिन पहलेे
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Whatsapp logo