Advertisement

Updated June 7th, 2024 at 11:27 IST

Breaking: दिल्ली अग्निकांड के बाद बड़ा एक्शन, अस्पतालों और नर्सिंग होम पर ACB के छापे

दिल्ली के विवेक विहार में बेबी केयर सेंटर में आगजनी की घटना के बाद उपराज्यपाल के निर्देश पर बड़ा एक्शन हुआ है।

Reported by: Digital Desk
Edited by: Dalchand Kumar
Delhi Baby Care Fire Incident
Delhi Baby Care Fire Incident | Image:R Bharat
Advertisement

Delhi Baby Care Center Fire Case: राजधानी दिल्ली के विवेक विहार में बेबी केयर सेंटर में आगजनी की घटना के बाद उपराज्यपाल के निर्देश पर बड़ा एक्शन हुआ है। राजधानी के अस्पतालों और कई नर्सिंग होम पर छापे मारे गए हैं। एसीबी (ACB) की टीम ने दिल्ली के अलग-अलग इलाकों में कार्रवाई की है। बताया जा रहा है कि इस दौरान 4 अस्पताल अवैध रूप से चलते पाए गए हैं, जबकि 40 अस्पतालों में खामियां मिली हैं।

जानकारी के मुताबिक, दिल्ली में 1190 से ज्यादा अस्पताल और नर्सिंग होम हैं। विवेक विहार के बेबी केयर सेंटर में आग की घटना के बाद एलजी ने इनकी जांच के आदेश दिए। अब ACB ने दिल्ली के 62 अस्पतालों और नर्सिंग होम पर छापा मारा। जो 4 अवैध अस्पताल मिले, इनमें से 2 अस्पताल पूर्वी दिल्ली के कृष्णा नगर और कोंडली में हैं। बाकी 2 अस्पताल राजौरी गार्डन और साउथ दिल्ली के देवली इलाके में हैं। बताया जा रहा है कि पहले चरण में ACB ने अस्पतालों की सूची तैयार की। फिर दूसरे चरण में ACB ने अस्पतालों और नर्सिंग होम में छापेमारी की।

Advertisement

दिल्ली अग्निकांड में मरे थे 7 नवजात

जानकारी के मुताबिक, बीवी केयर सेंटर में बीती रात साढ़े 11 बजे के आसपास अचानक से आग लगी थी। 7 नवजात बच्चे अपनी जिंदगी खो चुके थे। बेबी केयर सेंटर भी पूरी तरह जलकर खाक हो चुका था। उसके बाहर खड़ी एंबुलेंस में भी आग लगी थी। बताया जाता है कि आग लगने के कारण ग्राउंड फ्लोर पर पड़े ऑक्सीजन सिलेंडर में भी ब्लास्ट हुआ, जिसके चलते आसपास की इमारतें भी आग की चपेट में आई। दिल्ली फायर सर्विसेज के निदेशक अतुल गर्ग के मुताबिक, करीब 6 ब्लास्ट हुए हैं जिससे हमारे फायर फाइटर को भी खतरा था।

Advertisement

घटना के बाद दिल्ली पुलिस ने विवेक विहार न्यू बोर्न बेबी केयर अस्पताल के मलिक नवीन किची को गिरफ्तार कर लिया। अग्निकांड के बाद दिल्ली पुलिस ने नवीन किची के खिलाफ केस दर्ज किया था। नवीन किची के खिलाफ विवेक विहार पुलिस थाने में धारा 336 (दूसरों की व्यक्तिगत सुरक्षा को खतरे में डालने वाला कार्य) और 304ए (लापरवाही से मौत का कारण) के तहत मामला दर्ज हुआ था। 

यह भी पढ़ें: मुंबई में बड़ा हादसा, सिलेंडर फटने से थर्राया इलाका, 10 लोग घायल

Advertisement

Published June 7th, 2024 at 11:00 IST

आपकी आवाज. अब डायरेक्ट.

अपने विचार हमें भेजें, हम उन्हें प्रकाशित करेंगे। यह खंड मॉडरेट किया गया है।

Advertisement

न्यूज़रूम से लेटेस्ट

2 दिन पहलेे
2 दिन पहलेे
4 दिन पहलेे
7 दिन पहलेे
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Whatsapp logo