Advertisement

Updated May 29th, 2024 at 22:37 IST

'भगवान शिव को हमारी सुरक्षा की जरूरत नहीं, सुरक्षा की जरूरत तो...',दिल्ली HC ने क्यों की ये टिप्पणी?

Delhi News: दिल्ली हाई कोर्ट ने एक मामले की सुनवाई करते हुए कहा कि भगवान शिव को हमारी सुरक्षा की जरूरत नहीं है।

Reported by: Digital Desk
Edited by: Kunal Verma
Woman Can't Be Held Responsible For Lover's Suicide If Relationship Ends
प्रतीकात्मक तस्वीर | Image:Unsplash
Advertisement

अखिलेश राय

Delhi News: दिल्ली हाई कोर्ट ने एक मामले की सुनवाई करते हुए कहा कि भगवान शिव को हमारी सुरक्षा की जरूरत नहीं है। आपको बता दें कि दिल्ली हाई कोर्ट यमुना के बाढ़ क्षेत्र में स्थित अवैध शिव मंदिर को गिराने वाले मामले पर सुनवाई कर रहा था।

Advertisement

'भगवान शिव अधिक प्रसन्न होंगे...'

दिल्ली हाईकोर्ट  ने यमुना के बाढ़ क्षेत्र में स्थित अवैध शिव मंदिर को गिराने की अनुमति दे दी है। हाईकोर्ट ने कहा है कि यदि यमुना नदी के तल और बाढ़ क्षेत्र को अतिक्रमण और अवैध निर्माण से मुक्त कर दिया जाए तो भगवान शिव अधिक प्रसन्न होंगे।  हम लोग ही भगवान शिव की सुरक्षा और आशीर्वाद चाहते हैं।

Advertisement

' भगवान शिव को हमारी सुरक्षा की जरूरत नहीं'

हाईकोर्ट ने कहा कि याचिकाकर्ता के वकील द्वारा आधे-अधूरे मन से यह दलील देना कि मंदिर के देवता होने के नाते भगवान शिव को भी वर्तमान मामले में पक्षकार बनाया जाना चाहिए, पूरे विवाद को पूरी तरह से अलग रंग देने का एक गलत प्रयास है। हाईकोर्ट ने कहा कि यह कहने की आवश्यकता नहीं है कि भगवान शिव को हमारी सुरक्षा की आवश्यकता नहीं है बल्कि, हम लोग उनकी सुरक्षा और आशीर्वाद चाहते हैं।

Advertisement

हाई कोर्ट ने अपनी टिप्पणी में कहा कि इसमें कोई संदेह नहीं है कि यदि यमुना नदी के तल और बाढ़ क्षेत्र को सभी अतिक्रमण और अनधिकृत निर्माण से मुक्त कर दिया जाए तो भगवान शिव अधिक प्रसन्न होंगे। आपको बता दें कि हाईकोर्ट ने गीता कॉलोनी में ताज एन्क्लेव के पास स्थित प्राचीन शिव मंदिर को हटाने के लिए दिल्ली विकास प्राधिकरण द्वारा पारित ध्वस्तीकरण आदेश पारित किया।

ये भी पढ़ेंः राजस्थान की बेटी का कमाल, सरकारी स्कूल की निधि ने 10वीं बोर्ड में 600 में से 598 अंक के साथ टॉप

Advertisement

Published May 29th, 2024 at 22:19 IST

आपकी आवाज. अब डायरेक्ट.

अपने विचार हमें भेजें, हम उन्हें प्रकाशित करेंगे। यह खंड मॉडरेट किया गया है।

Advertisement

न्यूज़रूम से लेटेस्ट

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Whatsapp logo