Advertisement

Updated June 10th, 2024 at 23:40 IST

Jharkhand News: हेमंत सोरेन की जमानत याचिका पर सुनवाई पूरी, 12 जून को ED देगा जवाब

झारखंड मुक्ति मोर्चा के कार्यकारी अध्यक्ष सोरेन ने 27 मई को उच्च न्यायालय में जमानत के लिए एक याचिका दायर की थी। इस मामले में अगली सुनवाई पर ईडी जवाब देगी।

Hemant Soren
Hemant Soren | Image:ANI
Advertisement

Jharkhand News: उच्चतम न्यायालय के वरिष्ठ अधिवक्ता कपिल सिब्बल ने सोमवार को झारखंड उच्च न्यायालय के समक्ष पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को जमानत देने की वकालत करते हुए कहा कि झामुमो नेता को प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) द्वारा एक आपराधिक मामले में झूठा फंसाया गया है।

झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो) के कार्यकारी अध्यक्ष सोरेन ने 27 मई को उच्च न्यायालय में जमानत के लिए एक याचिका दायर की थी। ईडी इस मामले में सुनवाई की अगली तारीख 12 जून को जवाब देगी। सोरेन को कथित भूमि घोटाले से जुड़े धन शोधन मामले में ईडी ने 31 जनवरी को गिरफ्तार किया था। उन्होंने उच्च न्यायालय से शीघ्र सुनवाई का अनुरोध किया है।

Advertisement

सिब्बल ने सोरेन की दलील में कही ये बातें

सिब्बल ने दलील दी कि सोरेन पर रांची के बार्गेन क्षेत्र में 8.86 एकड़ के भूखंड पर कब्जा करने का गलत आरोप लगाया गया है और यह कृत्य धन शोधन निवारण अधिनियम के तहत अपराध नहीं बनता है, जिसके लिए सोरेन को हिरासत में लिया गया है। ईडी ने आरोप लगाया है कि भूमि दस्तावेजों में फेरबदल किया गया और सोरेन ने मूल भूस्वामियों को जबरन बेदखल कर दिया।

Advertisement

सिब्बल ने जवाब दिया कि मूल भूस्वामियों ने तब कोई शिकायत नहीं की जब उनकी जमीन कथित तौर पर ली गई तो और न ही अधिकारियों से संपर्क किया। उन्होंने कहा कि जबरन बेदखली की यह घटना 2009-10 में घटित हुई बतायी जाती है, लेकिन रिपोर्ट 2023 में ही तैयार की गई।

सिब्बल का दावा ED ने सबूतों से की छेड़छाड़

सिब्बल ने दलील दी कि यदि सोरेन के खिलाफ सभी आरोप सही भी हों, तो भी यह जबरन बेदखली का एक दीवानी मामला होगा, न कि आपराधिक मामला। उन्होंने दावा किया कि आपराधिक मामला सोरेन को सलाखों के पीछे रखने के गुप्त उद्देश्य से प्रेरित था। उन्होंने दावा किया कि ईडी ने सबूतों के साथ छेड़छाड़ की और सोरेन को फंसाने के लिए झूठे दस्तावेज तैयार किए।

कोर्ट ने ED को जवाब दाखिल करने का दिया निर्देश

मूल भूस्वामी राज कुमार पाहन ने पहले ही भूमि को अपने नाम पर बहाल करने के लिए आवेदन कर दिया है, जिस पर कार्रवाई की जा रही है। नवनिर्वाचित गांडेय विधायक और सोरेन की पत्नी कल्पना भी बहस के दौरान अदालत में मौजूद थीं। शाम चार बजे शुरू हुई सुनवाई शाम छह बजे तक चली। उच्च न्यायालय ने ईडी को मामले पर जवाब देने का निर्देश दिया और 12 जून के लिए अगली सुनवाई तय की। 28 मई को उच्च न्यायालय ने ईडी को सोरेन की जमानत याचिका पर जवाब दाखिल करने का निर्देश दिया था।

न्यायमूर्ति रोंगोन मुखोपाध्याय की पीठ के समक्ष पेश हुए सिब्बल ने पहले दलील दी थी कि झामुमो नेता राजनीतिक साजिश का शिकार हैं और उन्हें बिना सबूत के फंसाया गया है। सोरेन को 22 मई को उच्चतम न्यायालय से राहत नहीं मिली थी, जिसने धन शोधन मामले में गिरफ्तारी के खिलाफ याचिका में “महत्वपूर्ण तथ्यों को दबाने” के लिए उनकी आलोचना की थी।

Advertisement

यह भी पढ़ें… सीतारमण का नई सरकार के पहले बजट में आर्थिक एजेंडा पर रहेगा जोर

Advertisement

(Note: इस भाषा कॉपी में हेडलाइन के अलावा कोई बदलाव नहीं किया गया है)

Published June 10th, 2024 at 23:40 IST

आपकी आवाज. अब डायरेक्ट.

अपने विचार हमें भेजें, हम उन्हें प्रकाशित करेंगे। यह खंड मॉडरेट किया गया है।

Advertisement

न्यूज़रूम से लेटेस्ट

1 दिन पहलेे
1 दिन पहलेे
3 दिन पहलेे
6 दिन पहलेे
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Whatsapp logo