Advertisement

Updated June 10th, 2024 at 22:29 IST

मैंने अपने बच्चों को बस की सीट के नीचे छिपा दिया: आतंकी हमले में जीवित बचे पीड़ित की कहानी

शंकर और उनके परिवार के सदस्य आतंकी हमले में घायल हुए दिल्ली के पांच लोगों में शामिल हैं जिनका जम्मू कश्मीर के अस्पतालों में इलाज हो रहा है।

Four of family, including two-year-old boy, from Jaipur dead in Reasi terror attack
Reasi terror attack survivor story | Image:PTI
Advertisement

"जब पहाड़ियों से गोलियां चल रही थीं तो मैंने नीचे झुककर अपने दोनों बच्चों को बस की सीट के नीचे छिपा दिया... मैं दहशत के उन 20-25 मिनटों को कभी नहीं भूल पाऊंगा।"

यह बात जम्मू-कश्मीर के रियासी जिले में तीर्थयात्रियों को ले जा रही बस पर सोमवार को हुए घातक आतंकी हमले में जीवित बचे भवानी शंकर ने कही।

Advertisement

आतंकी हमले में जीवित बचे पीड़ित की कहानी

दिल्ली के तुगलकबाद एक्सटेंशन निवासी शंकर ने कहा कि वह छह जून को अपनी शादी की सालगिरह पर कटरा स्थित वैष्णो देवी मंदिर के दर्शन करने गए थे। उन्होंने कहा कि उनके साथ उनकी पत्नी राधा देवी और पांच वर्षीय बेटी दीक्षा तथा तीन साल का बेटा राघव भी था।

Advertisement

शंकर और उनके परिवार के सदस्य आतंकी हमले में घायल हुए दिल्ली के पांच लोगों में शामिल हैं जिनका जम्मू कश्मीर के अस्पतालों में इलाज हो रहा है।

बस पर आतंकियों ने किया हमला

Advertisement

शिव खोरी मंदिर से कटरा की ओर जा रही 53 सीट वाली बस पर आतंकवादियों द्वारा की गई गोलीबारी में नौ लोगों की मौत हो गई और 41 अन्य घायल हो गए। हमले की वजह से बस सड़क से फिसलकर गहरी खाई में गिर गई। घटना रविवार शाम रियासी के पोनी क्षेत्र के तेरयाथ गांव के पास हुई।

शंकर ने पीटीआई-भाषा से फोन पर कहा, ''छह जून को हम दिल्ली से श्री शक्ति एक्सप्रेस में सवार हुए और कटरा पहुंचे। सात जून को हम वैष्णो देवी मंदिर गए और आठ जून की आधी रात तक अपने होटल के कमरे में लौट आए।''

Advertisement

उन्होंने कहा, "नौ जून को हमने कटरा से शिव खोरी मंदिर के लिए बस ली और यात्रा के लिए 250 रुपये के दो टिकट खरीदे।"

शंकर ने कहा कि मंदिर से लौटते वक्त बस पर हमला हुआ।

Advertisement

उन्होंने कहा, "बस में हमारे बच्चे हमारी गोद में थे। हमने शाम लगभग छह बजे गोलियों की आवाज सुनी। केवल 10-15 सेकंड में, 20-25 से अधिक गोलियां चलाई गईं। एक गोली हमारे चालक को लगी और बस नियंत्रण से बाहर हो गई।''

मैंने बच्चों को सीट के नीचे छिपा दिया- शंकर

Advertisement

शंकर ने बताया कि बस हवा में घूम गई और बाद में अपनी सीधी स्थिति में आ गई लेकिन इसके पहिए पहाड़ी इलाके में पत्थरों और पेड़ों में फंस गए।

उन्होंने कहा, ‘‘मैं नीचे झुक गया और अपने दोनों बच्चों को सीट के नीचे छिपा दिया क्योंकि पहाड़ियों से गोलीबारी जारी थी। हमने यह सोचकर एक-दूसरे को कसकर गले लगाया कि यह हमारे जीवन का अंतिम क्षण हो सकता है। कुछ लोग चिल्ला रहे थे-हमला हो गया है।’’

Advertisement

शंकर ने कहा, "हम 20-25 मिनट तक इसी स्थिति में रहे क्योंकि जब हम खाई में पड़े थे तो कुछ और गोलियां चलाई गईं।"

भयावह घटना को कभी नहीं भूलेंगे- शंकर

Advertisement

उन्होंने कहा कि वह इस भयावह घटना को कभी नहीं भूलेंगे। शंकर ने कहा कि कुछ यात्री बस से बाहर गिर गए और बचाव दल के पहुंचने तक हर कोई चिल्ला रहा था। वह और उनके दो बच्चे एक ही अस्पताल में भर्ती हैं जबकि उनकी पत्नी का इलाज जम्मू-कश्मीर के दूसरे अस्पताल में हो रहा है।

शंकर ने कहा, "मेरे बेटे का हाथ टूट गया है और मेरी बेटी के सिर में चोटें आई हैं। मेरी पीठ में अंदरूनी चोटें आई हैं और मेरी पत्नी के सिर तथा पैरों में कई चोटें आई हैं।"

Advertisement

हमले में जीवित बचे शंकर दिल्ली में इंडियन ऑयल में तैनात एक अधिकारी के यहां चालक के पद पर कार्यरत हैं। वह अपनी पत्नी, पिता और एक अन्य रिश्तेदार के साथ दिल्ली के तुगलकाबाद एक्सटेंशन में रहते हैं।

उन्होंने कहा, ''मैं दिल्ली में अपने परिवार के सदस्यों के साथ फोन के जरिए नियमित संपर्क में हूं।''

Advertisement

इसे भी पढ़ें: अमित शाह को गृह और जयशंकर को विदेश मंत्रालय, राजनाथ सिंह को क्या मिला?

Advertisement

Published June 10th, 2024 at 22:29 IST

आपकी आवाज. अब डायरेक्ट.

अपने विचार हमें भेजें, हम उन्हें प्रकाशित करेंगे। यह खंड मॉडरेट किया गया है।

Advertisement

न्यूज़रूम से लेटेस्ट

2 दिन पहलेे
2 दिन पहलेे
4 दिन पहलेे
7 दिन पहलेे
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Whatsapp logo