Advertisement

Updated April 2nd, 2024 at 08:09 IST

2025 में दौड़ेगी 'सोने की मेट्रो', पहले थी सिल्वर; आखिर DMRC ने क्यों लिया ये बड़ा फैसला?

दिल्ली मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन ने मेट्रो चरण -4 परियोजना के हिस्से, तुगलकाबाद से दिल्ली एयरोसिटी कॉरिडोर के रंग कोड में बदलाव की घोषणा की है।

Reported by: Kiran Rai
The Golden Line, the forthcoming Phase 4 expansion, is a new addition to the Delhi Metro and is a pivotal development in the city’s public transportation network
The Golden Line, the forthcoming Phase 4 expansion, is a new addition to the Delhi Metro and is a pivotal development in the city’s public transportation network | Image:X
Advertisement

Golden Metro:  दिल्ली मेट्रो रेल कॉरपोरेशन (डीएमआरसी) ने मेट्रो चरण-4 परियोजना के तहत तुगलकाबाद से दिल्ली एयरोसिटी कॉरिडोर के कलर कोड में एक महत्वपूर्ण बदलाव की घोषणा की है। 

पहले इसे सिल्वर लाइन के नाम से जाना जाता था, अब इसे गोल्डन लाइन के नाम से जाना जाएगा।

Advertisement

पटरी पर दौड़ेगी गोल्डन मेट्रो

विजिबिलिटी संबंधी चिंताएं: रंग कोड को सिल्वर से गोल्डन में बदलने का निर्णय विजिबिलिटी संबंधी समस्याओं के कारण लिया गया था। मेट्रो कोचों पर सिल्वर कलर स्पष्ट रूप से दिखाई नहीं दे रहा था।

Advertisement

दूरी कितनी और स्टेशनों की संख्या: 23.62 किलोमीटर तक फैले गोल्डन लाइन कॉरिडोर में कुल 15 स्टेशन होंगे, जो पूरे क्षेत्र में बेहतर कनेक्टिविटी प्रदान करेंगे।

कब तक दौड़ेगी पटरी पर मेट्रो: इस गलियारे पर काम तेजी से आगे बढ़ रहा है, 2025 में पूरा होने की उम्मीद है।

Advertisement

चरण-4 में अन्य गलियारे

तीन नए कॉरिडोर: गोल्डन लाइन के अलावा, चरण-4 में दो अन्य कॉरिडोर निर्माणाधीन हैं। इनमें जनकपुरी पश्चिम से आरके आश्रम तक मजेंटा लाइन का विस्तार और मजलिस पार्क से मौजपुर तक पिंक लाइन का विस्तार शामिल है।

Advertisement

दिल्ली मेट्रो लाइनों की विशिष्ट पहचान: दिल्ली मेट्रो के प्रत्येक कॉरिडोर की पहचान एक अलग रंग से होती है। उदाहरण के लिए, येलो लाइन समयपुर बादली से गुड़गांव तक चलती है, ब्लू लाइन वैशाली से द्वारका को जोड़ती है, और रेड लाइन नया बस अड्डा से रिठाला तक चलती है।

दिल्ली मेट्रो के चरण-4 के हिस्से के रूप में गोल्डन लाइन की शुरूआत शहर के सार्वजनिक परिवहन नेटवर्क को बढ़ाने की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है। यह बदलाव न केवल विजिबिलिटी जैसी व्यावहारिक दिक्कतों को संबोधित करता है बल्कि शहर की तेजी से विस्तारित मेट्रो प्रणाली में एक अद्वितीय चरित्र भी जोड़ता है।

Advertisement

ये भी पढ़ें- Agra Metro: रिकॉर्ड टाइम में बन कर तैयार, AI निगरानी...CM योगी ने किया सफर , जानें क्यों है खास?

Advertisement

Published April 2nd, 2024 at 08:04 IST

आपकी आवाज. अब डायरेक्ट.

अपने विचार हमें भेजें, हम उन्हें प्रकाशित करेंगे। यह खंड मॉडरेट किया गया है।

Advertisement

न्यूज़रूम से लेटेस्ट

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Whatsapp logo