Advertisement

Updated April 2nd, 2024 at 19:43 IST

गर्मियों में रिकॉर्ड स्तर पर होगी बिजली की डिमांड, 260 गीगावॉट तक पहुंच सकती है खपत

मौसम विभाग ने अनुमान जताया है कि भारत में अप्रैल-जून की अवधि में भीषण गर्मी का सामना करना होगा।

Reported by: Digital Desk
Edited by: Ruchi Mehra
Electricity
गर्मियों में बढ़ेगी बिजली की डिमांड | Image:PTI/File
Advertisement

Electricity Demand in Summer: इन गर्मियों में बिजली की अधिकतम मांग 260 गीगावाट पर पहुंच जाने के अनुमान के बीच कोयले से पैदा होने वाली बिजली पर भारत की अत्यधिक निर्भरता बने रहने के आसार हैं।

बिजली मंत्रालय के एक अधिकारी ने मंगलवार को कहा कि देश के कुछ हिस्सों में इस साल भीषण गर्मी पड़ने की संभावना है। इस दौरान बिजली की मांग भी काफी बढ़ जाएगी और मंत्रालय इसे ध्यान में रखते हुए अपनी तैयारी कर रहा है।

Advertisement

जमा किया जा रहा कोयले का भंडार

अधिकारी ने कहा कि नवीकरणीय क्षमताओं में वृद्धि जारी होने के बीच चरम मांग को पूरा करने के लिए बिजली संयंत्रों में कोयले का भंडार जमा किया जा रहा है। इसके अलावा सौर ऊर्जा भी मांग को पूरा करने में काफी मदद करेगी।

Advertisement

मंत्रालय ने सभी बिजली उत्पादक कंपनियों, खासकर कोयले से चलने वाले ताप-विद्युत संयंत्रों को अपनी रखरखाव योजनाओं को टालने का निर्देश दिया है। इसके अलावा गैस-आधारित बिजली संयंत्रों को बिजली पैदा करने के लिए उपलब्ध रहने को कहा गया है।

भीषण गर्मी से होगा बुरा हाल

भारतीय मौसम-विज्ञान विभाग ने मंगलवार को अनुमान जताया कि भारत में अप्रैल-जून की अवधि में भीषण गर्मी का सामना करना होगा। इसकी सबसे ज्यादा मार देश के मध्य और पश्चिमी प्रायद्वीपीय हिस्सों पर पड़ने की आशंका है।

20 दिनों तक चलेगी हीटवेव

इसके अलावा, अधिकांश मैदानी इलाकों में सामान्य से अधिक लू चलने का अनुमान है। मौसम विभाग का कहना है कि देश के विभिन्न हिस्सों में सामान्यतः चार से आठ दिन की तुलना में 10-20 दिन तक लू चल सकती है।

ऐसी स्थिति में बिजली मंत्रालय का अनुमान है कि देश में अधिकतम मांग 260 गीगावाट तक पहुंच सकती है, जो पिछले साल सितंबर के रिकॉर्ड 243 गीगावाट से अधिक है।

Advertisement

अधिकारी ने नाम न छापने की शर्त पर पीटीआई-भाषा से कहा कि देशभर के जलाशयों में पानी का स्तर कम होने के कारण इस बार जलविद्युत उत्पादन पिछले साल की तुलना में कम होगा। इस स्थिति में कोयला-आधारित बिजली संयंत्र और सौर ऊर्जा देश में बिजली की उच्च मांग का एक बड़ा हिस्सा पूरा करेंगे।

अधिकारी ने बताया कि केंद्रीय बिजली मंत्री आर के सिंह और मंत्रालय के शीर्ष अधिकारी पिछले दो सप्ताह से रेलवे और कोयला मंत्रालयों, राज्यों के अधिकारियों और बिजली कंपनियों के साथ देश में अत्यधिक गर्मी की अनुमानित स्थिति पर समीक्षा बैठकें कर रहे हैं।

Advertisement

यह भी पढ़ें: '...इसलिए आंखों में आंसू आ गए', CM योगी की जनसभा में क्यों रोने लगी थी स्वामी प्रसाद मौर्य की बेटी?

Advertisement

(Note: इस भाषा कॉपी में हेडलाइन के अलावा कोई बदलाव नहीं किया गया है)

Published April 2nd, 2024 at 19:43 IST

आपकी आवाज. अब डायरेक्ट.

अपने विचार हमें भेजें, हम उन्हें प्रकाशित करेंगे। यह खंड मॉडरेट किया गया है।

Advertisement

न्यूज़रूम से लेटेस्ट

1 दिन पहलेे
2 दिन पहलेे
4 दिन पहलेे
4 दिन पहलेे
5 दिन पहलेे
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Whatsapp logo