Advertisement

Updated June 11th, 2024 at 22:10 IST

Reasi Attack: आतंकी हमले में लोगों को आगाह कर बचाई कई जान, खुद पत्नी की आंखों के सामने तोड़ा दम

Reasi Attack News: सौरव गुप्ता के चाचा मनोज गुप्ता ने कहा, ‘‘उसकी पत्नी शिवानी ने अपनी आंखों के सामने अपने पति को मरते हुए देखा। वह बेसुध है।’’

Reasi Attack News
Reasi Attack News | Image:PTI
Advertisement

जम्मू में आतंकी हमले की शिकार हुई बस में सवार 21 वर्षीय सौरव गुप्ता ने अन्य यात्रियों को आगाह करने के लिए शोर मचाया था, लेकिन तभी एक गोली उनकी गर्दन के पिछले हिस्से में लग गयी। रविवार को जम्मू के रियासी में बस पर हुए आतंकी हमले में मारे गए नौ तीर्थयात्रियों में सौरव भी शामिल थे।

सौरव के पिता कुलदीप गुप्ता और परिवार के अन्य सदस्य शव को एंबुलेंस से दिल्ली लेकर आए। मंगलवार को उत्तर-पूर्वी दिल्ली के मंडोली इलाके में उनके घर के पास अंतिम संस्कार किया गया। सौरव अपनी पत्नी शिवानी गुप्ता के साथ संतान प्राप्ति की प्रार्थना के लिए जम्मू में वैष्णो देवी मंदिर गए थे। दो साल से शादीशुदा इस जोड़े को उसी दिन बाद में घर लौटना था।

Advertisement

पत्नी के सामने तोड़ा दम

सौरव के चाचा मनोज गुप्ता ने ‘पीटीआई-भाषा’ से कहा, ‘‘शिवानी ने अपनी आंखों के सामने अपने पति को मरते हुए देखा। वह बेसुध है।’’ उन्होंने बताया, ‘‘जब आतंकवादियों ने बस पर हमला किया, तब सौरव चालक के पीछे खिड़की वाली सीट पर बैठे थे। जैसे ही गोलीबारी शुरू हुई, उन्होंने शोर मचाया, लेकिन उन्हें गोली लग गई। गोली उनकी गर्दन के पिछले हिस्से में लगी, क्योंकि वह खिड़की के पास बैठे थे।’’

Advertisement

मनोज गुप्ता ने बताया कि शिवानी हमले में सुरक्षित बच गईं, लेकिन बस के खाई में गिर जाने से उनके पैर और चेहरे में फ्रैक्चर हो गया। शिवानी का फिलहाल दंपति के घर के पास स्थित एक नर्सिंग होम में इलाज चल रहा है। तीन साल की उम्र में अपनी मां को खो चुके सौरव के परिवार में उनकी पत्नी, पिता और एक छोटा भाई है। सौरव का छोटा भाई कॉलेज में पढ़ रहा है। सौरव गांधी नगर इलाके में एक एक्सपोर्ट हाउस में काम करते थे।

ये भी पढ़ें: J&K में आतंकी हमले के बाद आतंकियों ने गांव पर शुरू की फायरिंग, पुलिस ने इलाके को घेरा

Advertisement

(Note: इस भाषा कॉपी में हेडलाइन के अलावा कोई बदलाव नहीं किया गया है)

Published June 11th, 2024 at 22:10 IST

आपकी आवाज. अब डायरेक्ट.

अपने विचार हमें भेजें, हम उन्हें प्रकाशित करेंगे। यह खंड मॉडरेट किया गया है।

Advertisement

न्यूज़रूम से लेटेस्ट

2 दिन पहलेे
2 दिन पहलेे
4 दिन पहलेे
7 दिन पहलेे
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Whatsapp logo