Advertisement

Updated April 4th, 2024 at 15:20 IST

जल बोर्ड मनी लॉन्ड्रिंग मामले में कोर्ट ने ईडी को दिया निर्देश, आरोपियों को सौंपे चार्जशीट की कॉपी

CBI ने आरोप लगाया है कि दिल्ली जल बोर्ड के एक्स चीफ इंजीनियर जगदीश कुमार ने NKG इंफ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड नामक कंपनी को बोर्ड का 38 करोड़ रुपये का ठेका दिया था।

Reported by: Ravindra Singh
Representative image of a water tap.
दिल्ली जलबोर्ड का सांकेतिक चित्र | Image:PTI
Advertisement

दिल्ली की एक अदालत ने दिल्ली जल बोर्ड के ठेके देने में कथित अनियमितताओं से संबंधित धनशोधन मामले में आरोपियों को आरोप पत्र की एक प्रति प्रदान करने का प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) को बृहस्पतिवार को निर्देश दिया। सुनवाई के दौरान दो आरोपियों... जल बोर्ड के पूर्व मुख्य अभियंता जगदीश अरोड़ा और ठेकेदार अनिल अग्रवाल को बुधवार को पारित अदालत के आदेशों के अनुसार, जेल अधिकारियों द्वारा अदालत के समक्ष पेश किया गया। वे वर्तमान में न्यायिक हिरासत में हैं।

बुधवार को आरोप पत्र पर संज्ञान लेते हुए अदालत द्वारा जारी किए गए समन के अनुपालन में, एक अन्य आरोपी तेजिंदर सिंह भी अदालत के सामने पेश हुए जबकि चौथे आरोपी एनबीसीसी के पूर्व महाप्रबंधक डी के मित्तल ने आज व्यक्तिगत उपस्थिति से छूट की मांग करते हुए एक आवेदन दायर किया। अदालत ने दस्तावेजों की जांच के लिए मामले की सुनवाई 20 अप्रैल को तय की है।

Advertisement

जल बोर्ड के ठेके के बदले ली गई रिश्वतः ईडी

एजेंसी ने 28 मार्च को अदालत में आठ हजार पन्नों की अभियोजन शिकायत (आरोप पत्र) दायर की थी। ईडी ने आरोप लगाया है कि बोर्ड की ओर से दिए गए जल बोर्ड ठेके के बदले रिश्वत ली गई और यह पैसा दिल्ली में सत्तारूढ़ आम आदमी पार्टी (आप) को चुनावी कोष के रूप में दिया गया था। एजेंसी ने मामले में पूछताछ के लिए मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को भी बुलाया था, लेकिन वह उसके सामने पेश नहीं हुए।

Advertisement

मानदंडों को पूरा नहीं करती ठेका पाने वाली कंपनी

केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) की एक प्राथमिकी में आरोप लगाया गया है कि दिल्ली जल बोर्ड के पूर्व मुख्य अभियंता जगदीश कुमार अरोड़ा ने एनकेजी इंफ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड नामक कंपनी को बोर्ड का 38 करोड़ रुपये का ठेका दिया था। यह ठेका इस तथ्य के बावजूद दिया गया था कि कंपनी तकनीकी पात्रता मानदंडों को पूरा नहीं करती है। ईडी के मामले का यही आधार है।

Advertisement

आप नेत्री आतिशी ने आरोपों से किया इनकार

ईडी ने कहा कि ठेके का मूल्य 38 करोड़ रुपये था और इस पर सिर्फ 17 करोड़ रुपये खर्च किए गए और शेष राशि का विभिन्न फर्जी खर्चों की आड़ में गबन कर लिया गया। दिल्ली की मंत्री आतिशी ने एक प्रेस वार्ता में आरोपों से इनकार किया था और दावा किया था कि यह मामला आम आदमी पार्टी और उसके नेताओं की छवि खराब करने का एक और प्रयास है।

Advertisement

यह भी पढ़ेंः सुनीता ने पढ़ा केजरीवाल का संदेश,बैकग्राउंड पिक पर कपिल मिश्रा के सवाल!

Advertisement

Published April 4th, 2024 at 15:03 IST

आपकी आवाज. अब डायरेक्ट.

अपने विचार हमें भेजें, हम उन्हें प्रकाशित करेंगे। यह खंड मॉडरेट किया गया है।

Advertisement

न्यूज़रूम से लेटेस्ट

1 दिन पहलेे
1 दिन पहलेे
2 दिन पहलेे
3 दिन पहलेे
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Whatsapp logo