Advertisement

Updated June 6th, 2024 at 20:41 IST

केंद्र सरकार ने राज्यों को दिए निर्देश, गर्मी से पीड़ित मरीजों को खास कक्ष उपलब्ध कराए जाए

केंद्र सरकार ने राज्यों को स्वास्थ्य केंद्रों में ऐसे मरीजों के लिए विशेष कक्ष सुनिश्चित करने और अग्नि तथा विद्युत सुरक्षा उपायों की समीक्षा करने को कहा है।

suffering from heat
गर्मी से पीड़ित मरीज | Image:Shutterstock/ Representative
Advertisement

देश के कई हिस्सों के भीषण गर्मी की चपेट में रहने के बीच केंद्र सरकार ने राज्यों एवं केंद्र शासित प्रदेशों से सभी स्वास्थ्य केंद्रों में ऐसे मरीजों के लिए विशेष कक्ष सुनिश्चित करने और अग्नि तथा विद्युत सुरक्षा उपायों की समीक्षा करने को कहा है।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के स्वास्थ्य सेवा महानिदेशक डॉ. अतुल गोयल ने राज्यों एवं केंद्र शासित प्रदेशों के साथ भीषण गर्मी की स्थिति से जुड़ी तैयारियों और देश भर में विभिन्न स्वास्थ्य देखभाल केन्द्रों द्वारा अपनाए गए अग्नि और विद्युत सुरक्षा उपायों का आकलन करने के लिए डिजिटल माध्यम से एक बैठक की।

Advertisement

राज्य के स्वास्थ्य विभागों को परामर्श जारी कर गर्मी से संबंधित बीमारियों के लिए स्वास्थ्य प्रणालियों की तैयारी को मजबूत करने के लिए दिशा-निर्देश लागू करने को कहा गया है। इसके अलावा, ‘‘क्या करें और क्या न करें’’ के बारे में एक सार्वजनिक स्वास्थ्य परामर्श भी जारी किया गया है।

प्रदेशों से आग्रह किया गया है कि वे गर्मी से संबंधित बीमारियों के लिए आपातकालीन शीतलन और गर्मी से संबंधित मौतों के मामलों में पोस्टमार्टम पर दिशानिर्देशों का पालन करें।

Advertisement

राज्यों के स्वास्थ्य विभागों से कहा गया है कि वे स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के सचिव (स्वास्थ्य) और ‘एनडीएमए’ के संयुक्त पत्र तथा स्वास्थ्य सेवा महानिदेशालय के स्वास्थ्य केंद्रों में अग्नि सुरक्षा उपायों को लेकर भेजे गए पत्र में बताई गई बातों का पालन करें। साथ ही गर्मी के प्रभावों को रोकने के लिए स्वास्थ्य सुविधा और एम्बुलेंस की तैयारी का आकलन करने के लिए भी कहा गया है।

इससे पहले 23 मार्च को राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को भीषण गर्मी के कारण होने वाली विनाशकारी घटनाओं को रोकने के लिए सक्रिय कदम उठाने को कहा गया था। इसके बाद 29 मई को एक और पत्र लिखकर अग्नि सुरक्षा के संबंध में निवारक उपाय करने को कहा गया।

Advertisement

राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों द्वारा किए जाने वाले उपायों में ‘हीट हेल्थ एक्शन प्लान’ का कार्यान्वयन, मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) की ओर से भीषण गर्मी को लेकर जारी पूर्व चेतावनी का प्रसार तथा गर्मी के कारण होने वाली बीमारी के लक्षणों पर स्वास्थ्य देखभाल कर्मचारियों का संवेदीकरण करना समेत अन्य बातें शामिल हैं।  

Advertisement

(Note: इस भाषा कॉपी में हेडलाइन के अलावा कोई बदलाव नहीं किया गया है)

Published June 6th, 2024 at 20:41 IST

आपकी आवाज. अब डायरेक्ट.

अपने विचार हमें भेजें, हम उन्हें प्रकाशित करेंगे। यह खंड मॉडरेट किया गया है।

Advertisement

न्यूज़रूम से लेटेस्ट

2 दिन पहलेे
2 दिन पहलेे
4 दिन पहलेे
7 दिन पहलेे
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Whatsapp logo