Advertisement

Updated May 14th, 2024 at 23:43 IST

संदेशखाली: स्टिंग वीडियो केस में BJP नेता की याचिका पर कलकत्ता HC ने सुनवाई शुक्रवार तक स्थगित की

कलकत्ता उच्च न्यायालय ने भाजपा नेता गंगाधर कोयल की याचिका पर सुनवाई शुक्रवार तक के लिए स्थगित कर दी, कथित स्टिंग वीडियो की जांच सीबीआई को सौंपने का आग्रह।

Reported by: Digital Desk
Calcutta High Court
कलकत्ता हाईकोर्ट | Image:PTI
Advertisement

कलकत्ता उच्च न्यायालय ने मंगलवार को संदेशखालि के भाजपा नेता गंगाधर कोयल की उस याचिका पर सुनवाई शुक्रवार तक के लिए स्थगित कर दी जिसमें यौन उत्पीड़न के आरोपों के बारे में एक कथित स्टिंग वीडियो की जांच सीबीआई को सौंपने का आग्रह किया गया है।

पश्चिम बंगाल सरकार की ओर से पेश महाधिवक्ता किशोर दत्ता ने मामले की सुनवाई स्थगित करने का अनुरोध किया। उन्होंने न्यायमूर्ति जय सेनगुप्ता के समक्ष कहा कि संदेशखालि में यौन उत्पीड़न और जमीन कब्जाने के आरोपों की सीबीआई जांच के उच्च न्यायालय के आदेश के खिलाफ राज्य सरकार की याचिका पर उच्चतम न्यायालय में एक महिला ने पक्ष बनने के लिए आवेदन दायर किया है।

Advertisement

दत्ता ने कहा कि इसलिए इस मामले में संक्षिप्त स्थगन दिया जाए। न्यायमूर्ति सेनगुप्ता ने आग्रह को स्वीकार करते हुए निर्देश दिया कि संदेशखालि में यौन उत्पीड़न के आरोपों से संबंधित कथित स्टिंग वीडियो की जांच स्थानांतरित करने की मांग वाली कोयल की याचिका पर शुक्रवार को सुनवाई की जाएगी।

पश्चिम बंगाल में सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस ने हाल ही में कोयल के एक कथित ‘स्टिंग ऑपरेशन’ का वीडियो साझा किया था। वीडियो में कोयल जैसा दिखने वाला एक व्यक्ति यह दावा करते हुए दिखता है कि संदेशखालि में यौन शोषण के आरोप योजनाबद्ध तरीके से गढ़े गए थे।

Advertisement

पीटीआई-भाषा वीडियो की पुष्टि नहीं करती है। भाजपा नेता ने अपनी याचिका में दावा किया है कि उन्हें बदनाम करने के लिए प्रौद्योगिकी की मदद से उनकी आवाज की नकल करने वाले वीडियो प्रसारित किए जा रहे हैं।

यह दावा करते हुए कि इस तरह के कथित वीडियो संदेशखालि में तनाव पैदा कर रहे हैं जिससे उनकी सुरक्षा को खतरा है, कोयल ने अदालत से आग्रह किया कि उन्हें केंद्रीय बल की सुरक्षा उपलब्ध कराने का आदेश दिया जाए।

Advertisement

याचिकाकर्ता ने यह भी कहा कि वह अपनी नकली आवाज के कथित इस्तेमाल को लेकर पहले ही केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) के अधिकारियों से मिल चुके हैं। कलकत्ता उच्च न्यायालय के पूर्व के आदेश पर सीबीआई उत्तर 24 परगना के संदेशखालि में कथित यौन शोषण और जमीन हड़पने के मामलों की जांच कर रही है।

पश्चिम बंगाल सरकार ने उच्च न्यायालय के आदेश को चुनौती देते हुए उच्चतम न्यायालय में अपील दायर की है। शीर्ष अदालत ने राज्य सरकार की याचिका पर सुनवाई जुलाई के लिए सूचीबद्ध कर रखी है। इसने स्पष्ट किया था कि याचिका लंबित रहने को किसी भी उद्देश्य के लिए आधार के रूप में इस्तेमाल नहीं किया जाएगा।

Advertisement

(Note: इस भाषा कॉपी में हेडलाइन के अलावा कोई बदलाव नहीं किया गया है)

Published May 14th, 2024 at 23:43 IST

आपकी आवाज. अब डायरेक्ट.

अपने विचार हमें भेजें, हम उन्हें प्रकाशित करेंगे। यह खंड मॉडरेट किया गया है।

Advertisement

न्यूज़रूम से लेटेस्ट

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Whatsapp logo