Advertisement

Updated June 6th, 2024 at 14:47 IST

'नींव कमजोर थी, इसलिए...', घाटकोपर होर्डिंग हादसे पर रिपोर्ट में बड़ा खुलासा,17 लोगों की हुई थीं मौत

Mumbai News: रिपोर्ट में खुलासा हुआ कि होर्डिंग जिस स्थान पर लगाया गया था वजह उचित नहीं थी और नींव कमजोर थी।

Hoarding collapses in Ghatkopar
मुंबई घाटकोपर हादसा | Image:Republic
Advertisement

Mumbai Ghatkopar Hoarding Collapse Incident: महाराष्ट्र के मुंबई में पिछले माह विशालकाय होर्डिंग गिरने से 17 लोगों के मारे जाने की घटना पर एक प्रौद्योगिकी संस्थान ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि यह होर्डिंग जहां लगाया गया था वह नींव कमजोर थी। अधिकारियों ने बृहस्पतिवार को यह जानकारी दी।

प्रौद्योगिकी संस्थान ने बुधवार को अपनी रिपोर्ट पुलिस को सौंपी। इस रिपोर्ट में कहा गया है कि आदर्श स्थिति यह है कि शहर में लगे किसी भी होर्डिंग को हवा की 158 किलोमीटर प्रति घंटे की गति को सहने में सक्षम होना चाहिए लेकिन घाटकोपर में लगा बिलबोर्ड हवा की केवल 49 किलोमीटर प्रति घंटे की गति ही सह पाया।

Advertisement

इस वजह से गिरा था होर्डिंग

एक अधिकारी ने बताया कि घटना वाले दिन हवा की गति 87 किलोमीटर प्रति घंटा थी जब यह होर्डिंग धराशायी हो गया था। अधिकारियों के अनुसार, 13 मई को धूल भरी आंधी और बेमौसम बारिश के दौरान एक बड़ा होर्डिंग पास के पेट्रोल पंप पर गिर गया था जिससे 17 लोगों की मौत हो गई और 74 अन्य घायल हो गए थे।

Advertisement

बृहन्मुंबई नगर निगम (बीएमसी) ने वीरमाता जीजाबाई प्रौद्योगिकी संस्थान (वीजेटीआई) से होर्डिंग गिरने के कारणों का पता लगाने का अनुरोध किया था।

'जानबूझकर की गई लापरवाही'

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि संस्थान ने बुधवार को अपनी रिपोर्ट मुंबई अपराध शाखा को सौंपी। अपराध शाखा ही इस मामले की जांच कर रही है। अधिकारी ने रिपोर्ट के हवाले से बताया ,‘‘ होर्डिंग जिस स्थान पर लगाया गया था वजह उचित नहीं थी और नींव कमजोर थी।’’ उन्होंने बताया कि ‘वीजेटीआई’ के तकनीकी विशेषज्ञों ने घटना के बाद ढांचे की नींव और ढेर के नमूने एकत्र किए थे।

अधिकारी ने ‘पीटीआई-भाषा’ को बताया, ‘‘होर्डिंग की क्षमता को देखते हुए यह साबित होता है कि यह संबंधित व्यक्तियों (आरोपी) की ओर से जानबूझकर की गई लापरवाही थी और यह ईश्वर की मर्जी नहीं थी।’’ होर्डिंग लगाने वाली विज्ञापन कंपनी के निदेशक भावेश भिंडे को घटना के बाद गिरफ्तार कर लिया गया था।

Advertisement

यह भी पढ़ें: NEET Result 2024: कोटा में एक और स्टूडेंट ने की खुदकुशी, साल में अबतक 11 बच्चों ने दी जान

Advertisement

(Note: इस भाषा कॉपी में हेडलाइन के अलावा कोई बदलाव नहीं किया गया है)

Published June 6th, 2024 at 14:47 IST

आपकी आवाज. अब डायरेक्ट.

अपने विचार हमें भेजें, हम उन्हें प्रकाशित करेंगे। यह खंड मॉडरेट किया गया है।

Advertisement

न्यूज़रूम से लेटेस्ट

3 घंटे पहलेे
1 दिन पहलेे
2 दिन पहलेे
2 दिन पहलेे
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Whatsapp logo