Advertisement

Updated April 1st, 2024 at 18:43 IST

तिहाड़ पहुंचते ही केजरीवाल ने बताई नामों की लिस्ट, परिवार के अलावा वो 3 कौन जिससे चाहते हैं मिलना?

Delhi News: अरविंद केजरीवाल ने जेल में जाकर मिलने वालों की लिस्ट में 6 लोगों के नाम लिखवाए हैं।

Reported by: Digital Desk
Edited by: Kunal Verma
CM Arvind Kejriwal
अरविंद केजरीवाल | Image:PTI
Advertisement

Delhi News: अरविंद केजरीवाल ने जेल में जाकर मिलने वालों की लिस्ट में 6 लोगों के नाम लिखवाए हैं। सूत्रों के मुताबिक, केजरीवाल ने परिवार के सदस्यों के अलावा 3 खास दोस्तों के नाम दिए हैं।

आपको बता दें कि नियमों के मुताबिक, कुल 10 लोगों के नाम दिए जा सकते है, लेकिन अभी केजरीवाल ने सिर्फ 6 लोगों के नाम लिखवाए हैं। आपको बता दें कि अभी ये साफ नहीं हो पाया है कि केजरीवाल ने परिवार के अलावा किन दोस्तों के नाम दिए हैं।

Advertisement

पूछताछ के दौरान केजरीवाल ने गोलमोल जवाब दिएः ED

प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने सोमवार को यहां की एक अदालत के समक्ष एक याचिका दायर करके दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की 15 दिनों की न्यायिक हिरासत का अनुरोध किया। केजरीवाल को कथित दिल्ली आबकारी नीति 'घोटाला' मामले में गिरफ्तार किया गया है। ईडी ने कहा कि केजरीवाल एजेंसी को गुमराह कर रहे थे। ईडी ने कहा कि वह अब भी मुख्यमंत्री की भूमिका की जांच कर रही है, अपराध की आय का पता लगा रही है और अपराध की आय से संबंधित गतिविधियों में शामिल अन्य व्यक्तियों की पहचान कर रही है। विशेष न्यायाधीश कावेरी बावेजा ने केजरीवाल को 15 अप्रैल तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया।

Advertisement

ईडी ने न्यायिक हिरासत के अनुरोध वाली अपनी याचिका में कहा कि हिरासत में पूछताछ के दौरान केजरीवाल सवालों के गोलमोल जवाब देते नजर आये और जानकारी छिपायी। उसने कहा कि नौ दिनों की अवधि में मुख्यमंत्री के बयान लिए गए और विभिन्न गवाहों, सरकारी गवाहों और अन्य सह-आरोपियों के बयानों से उनका सामना कराया गया।

'नायर के साथ उनकी बातचीत सीमित थी'

याचिका में केजरीवाल द्वारा "सवालों के गोलमोल जवाब देने के कुछ उदाहरण" सूचीबद्ध किए गए। इसमें कहा गया, ''उन्होंने (केजरीवाल ने) कहा कि विजय नायर उन्हें नहीं बल्कि आतिशी मार्लेना और सौरभ भारद्वाज को रिपोर्ट करता था और नायर के साथ उनकी बातचीत सीमित थी।''

याचिका में कहा गया कि हालांकि, नायर के बयानों से पता चला है कि वह एक कैबिनेट मंत्री के बंगले में रहता था और मुख्यमंत्री के शिविर कार्यालय से काम करता था। इसमें कहा गया, ‘‘गिरफ्तार व्यक्ति (केजरीवाल) को यह समझाने के लिए भी कहा गया था कि जो व्यक्ति आप के अन्य नेताओं को रिपोर्ट करता था, वह उनके शिविर कार्यालय से काम क्यों करेगा, जो दिल्ली के मुख्यमंत्री के काम के लिए है, न कि पार्टी के लिये। केजरीवाल ने यह दावा करते हुए जवाब टाल दिया कि मुख्यमंत्री शिविर कार्यालय में काम करने वाले व्यक्तियों के बारे में उन्हें जानकारी नहीं है।’’

Advertisement

(इनपुटः PTI भाषा के साथ रिपब्लिक भारत)

ये भी पढ़ेंः 'मोदी पर जनता को भरोसा, जहां राहुल, वहां नहीं हो सकती है विश्वसनीयता', आचार्य प्रमोद कृष्णम का हमला

Advertisement

Published April 1st, 2024 at 18:39 IST

आपकी आवाज. अब डायरेक्ट.

अपने विचार हमें भेजें, हम उन्हें प्रकाशित करेंगे। यह खंड मॉडरेट किया गया है।

Advertisement

न्यूज़रूम से लेटेस्ट

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Whatsapp logo