Advertisement

Updated April 3rd, 2024 at 10:04 IST

आर्टिफिशियल रेन, पानी से भरा टैंक...भयंकर गर्मी को हाथियों ने ऐसे दिया मात, नहाते हुए नटखट हुआ झुंड

Tamil Nadu के टेंपरेचर में हुई अचानक वृद्धि से भीषण गर्मी, हाथियों के लिए शावर से लेकर मिट्टी स्नान और यहां तक स्विमिंग पूल में नहाने की भी खास तैयारियां की गई।

Reported by: Nidhi Mudgill
खुद नहा रहे हाथी
elephant bathing itself | Image:Shutterstock
Advertisement

Elephant Bathing: तमिलनाडु के टेंपरेचर में हुई अचानक वृद्धि से भीषण गर्मी पड़ रही है, वहीं, मौसम विभाग के मुताबिक आने वाले दिनों में तापमान 40 डिग्री तक जा सकता है। ऐसे में तमिलनाडु में भीषण गर्मी से बचने के लिए खास इंतेजाम किए जा रहे हैं, वहीं, तिरुचिरापल्ली के एमआर पलायम में हाथी बचाव और पुनर्वास केंद्र हाथियों के लिए गर्मी से निपटने के लिए खास व्यवस्था कर रहा है। जी हां हाथियों के लिए आर्टिफिशियल रेन, शावर से लेकर मिट्टी स्नान और यहां तक स्विमिंग पूल में नहाने की भी खास तैयारियां की गई है।

वन अधिकारी ने बताया कि हाथियों के शरीर के तापमान को कम रखने के लिए हाथी बचाव और पुनर्वास केंद्र में खास तैयारियां की गई है। क्योंकि हाथी ठंड तो झेल लेते हैं, लेकिन भीषण गर्मी में धूप से उन्हें प्रॉब्लम होती है। ऐसे में हाथियों के लिए गर्मी से बचने के लिए उनके लिए ज्यादा पानी और दिन में कम से कम 3 बार उनके नहाने की व्यवस्था की गई है।

Advertisement

हाथी के खुद से नाहते हुए वीडियो वायरल  

तिरुचिरापल्ली के एमआर पलायम में हाथी बचाव और पुनर्वास केंद्र में हाथियों का एक वीडियो भी सामने आया है जिसमें हाथी खुद से ही नाह रहे हैं। हाथियों के खाने पीने की व्यवस्था से लेकर पानी पिलाना और मिट्टी से नहाने और मस्त शावर लेने की व्यवस्था की गई है।

Advertisement

वन्य पशु डॉक्टर ने हाथियों के बारे में बताया

तमिलनाडु के वन्य पशु डॉक्टर कलाईवन्नन ने हाथियों के बारे में ज्यादा जानकारी देते हुए बताया कि, 'हम एम.आर. पलायम आरक्षित वन में एक हाथी बचाव और पुनर्वास शिविर चला रहे हैं। हमारे पास अब यहां 11 हाथी हैं। इन हाथियों को निजी मालिकों से लाया गया था जिनके पास लाइसेंस नहीं था या फिर जिनके पास हाथियों की अच्छी सेवा करने की व्यवस्था नहीं थी। ऐसे हाथी मालिकों से लिए गए ये हाथी अब यहीं रहते हैं।' 

यह भी पढ़ें : टिकट के लिए सपा में सिर फुटौवल की स्थिति, मेरठ को लेकर अखिलेश कन्फ्यूज

हथियों के लिए चलाया जा रहा शिविर 

वन्य पशु डॉक्टर कलाईवन्नन ने आगे बताया कि, ‘यह शिविर 2019 से चल रहा है। वहीं, हमारे पास हाथियों के लिए यहां आवश्यक सभी सुविधाएं हैं। हम उन्हें डॉक्टरों द्वारा निर्धारित किए गए अनाज, सब्जियां, फल और बाकि आहार का मिश्रण हर रोज खिलाते हैं। हमारे पास एक विजिटिंग डॉक्टर भी हो जो हफ्ते में एक बार आके हाथियों के स्वास्थ्य की जांच करता है। जिससे हाथी यहां अच्छे से रहते हैं।’

यह भी पढ़ें : बिहार के डिप्टी CM सम्राट चौधरी का पूर्व सीएम लालू प्रसाद यादव पर हमला

Advertisement

Published April 3rd, 2024 at 09:36 IST

आपकी आवाज. अब डायरेक्ट.

अपने विचार हमें भेजें, हम उन्हें प्रकाशित करेंगे। यह खंड मॉडरेट किया गया है।

Advertisement

न्यूज़रूम से लेटेस्ट

1 दिन पहलेे
2 दिन पहलेे
4 दिन पहलेे
4 दिन पहलेे
5 दिन पहलेे
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Whatsapp logo