Advertisement

Updated June 11th, 2024 at 10:38 IST

किसान संगठन की बड़ी मांग, संसद को लिंचिंग, घृणा अपराध रोकने के लिए कानून बनाने चाहिए

ऑल इंडिया किसान सभा ने संसद से मॉब लिंचिंग और घृणा अपराधों को रोकने के लिए कानून बनाने की मांग की है।

Reported by: Digital Desk
Kisan Andolan
किसान आंदोलन | Image:PTI/File
Advertisement

ऑल इंडिया किसान सभा (एआईकेएस) ने संसद से ‘मॉब लिंचिंग’ (भीड़ द्वारा पीट पीटकर मार डालने) और घृणा अपराधों को रोकने के लिए कानून बनाने की सोमवार को मांग की।एआईकेएस ने यह मांग छत्तीसगढ़ में तीन मवेशी ट्रांसपोर्टर के खिलाफ भीड़ द्वारा की गई हिंसा का विरोध प्रदर्शन करते हुए की।

सोमवार को यहां जारी एक बयान में, एआईकेएस ने छत्तीसगढ़ के महासमुंद-रायपुर सीमा पर महानदी पुल पर सात जून, 2024 को मवेशियों को ले जाने वाले श्रमिकों की ‘‘हत्या’’ और एक अन्य श्रमिक को गंभीर रूप से घायल करने का कड़ा विरोध किया। इसमें शामिल लोगों को "आपराधिक गैंगस्टर" कहते हुए, एआईकेएस ने कहा कि 15-20 लोगों का एक समूह ओडिशा की ओर जा रहे जानवरों से भरे ट्रक का पीछा कर रहा था।

Advertisement

मॉब लिचिंग को रोकने के लिए कानून बने

उन्होंने कहा कि समूह ने टायरों की हवा निकालने के लिए पुल पर कीलें लगाईं और ट्रक को रोकने के बाद, चालकों को बुरी तरह पीटा गया और पुल से 30 फीट नीचे पत्थरों पर फेंक दिया गया। एआईकेएस ने कहा, "तहसीन कुरैशी की मौके पर ही मौत हो गई और चांद खान को अस्पताल पहुंचने के बाद मृत घोषित कर दिया गया। एक अन्य व्यक्ति सद्दाम कुरैशी को गंभीर चोटें आईं और वह अस्पताल में है। यह बहुत स्पष्ट है कि यह पूर्व नियोजित हत्या और घृणा अपराध की घटना है, न कि भीड़ द्वारा हत्या।’’

Advertisement

इसने कहा कि राज्य पुलिस ने हत्या के प्रयास और गैर इरादतन हत्या के लिए आईपीसी की धारा 304 और 307 के तहत प्राथमिकी दर्ज की है, जिसके लिए दो साल तक की सजा या जुर्माना या दोनों हो सकते हैं। उसने कहा, "पुलिस ने हत्या के लिए भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा 302 को शामिल नहीं किया है। वे इस गंभीर चूक को गोरक्षा के नाम पर संदिग्ध भीड़ द्वारा हत्या के रूप में जायज ठहराते हैं।"

उसने कहा, ‘‘एआईकेएस राजग के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार और नव निर्वाचित संसद से गोरक्षा के नाम पर भीड़ द्वारा हत्या और घृणा अपराधों को रोकने के लिए एक कानून बनाने, पशुपालकों, व्यापारियों और उद्योग में श्रमिकों के हितों की रक्षा के लिए मुकदमे और सजा में तेजी लाने के लिए त्वरित सुनवायी अदालत स्थापित करने की पुरजोर मांग करता है।’’

Advertisement

यह भी पढ़ें: दोषी को फांसी दी जाए, 1 करोड़ की रंगदारी मामले में FIR पर भड़के पप्पू
 

Advertisement

(Note: इस भाषा कॉपी में हेडलाइन के अलावा कोई बदलाव नहीं किया गया है)

Published June 11th, 2024 at 10:38 IST

आपकी आवाज. अब डायरेक्ट.

अपने विचार हमें भेजें, हम उन्हें प्रकाशित करेंगे। यह खंड मॉडरेट किया गया है।

Advertisement

न्यूज़रूम से लेटेस्ट

2 दिन पहलेे
2 दिन पहलेे
4 दिन पहलेे
7 दिन पहलेे
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Whatsapp logo