Advertisement

Updated May 29th, 2024 at 16:47 IST

पुणे पोर्शे कांड में अजित पवार ने CP को किया था फोन? सियासी उबाल के बाद आया बयान, कहा-हां, लेकिन..

Pune Porsche Case: पुणे पोर्शे कांड में बड़ा अपडेट सामने आ रहा है। बताया जा रहा है कि अजित पवार ने घटना के दिन पुलिस कमिश्नर से बात की थी।

Reported by: Digital Desk
Edited by: Kunal Verma
ajit pawar
ajit pawar | Image:pti
Advertisement

Pune Porsche Case: पुणे पोर्शे कांड में बड़ा अपडेट सामने आ रहा है। बताया जा रहा है कि अजित पवार ने घटना के दिन पुलिस कमिश्नर से बात की थी। इसको लेकर चल रहे सियासी उबाल के बीच अब अजित पवार का बयान भी सामने आया है और उन्होंने इस मामले पर बड़ा खुलासा कर दिया है।

पवार के कबूलनामे से उठने वाले सवाल

  • अमितेश कुमार ने यह जानकारी क्यों छिपायी?
  • क्या अजित पवार सीधे पुणे पुलिस कमिश्नर को फोन कर रहे थे?
  • क्या अजित पवार ने सीधे तौर पर जांच में दखल देने की कोशिश की?
  • क्या अजित पवार को देवेन्द्र फडणवीस के पास जाना चाहिए था?
  • क्या पुणे पुलिस कमिश्नर कार में बैठे मौजूदा विधायक के बेटे को बचा रहे हैं?

पुणे पोर्शे कांड में अजित पवार ने CP को किया था फोन?

अजित पवार ने स्वीकार किया है कि उन्होंने कमिश्नर ऑफ पुलिस को फोन किया था। पवार ने कहा- 'अगर कोई पत्रकार मुझे सूचित करता है कि जिस क्षेत्र में आप मंत्री हैं, वहां कोई घटना हुई है, तो मैं इसके बारे में आयुक्त से बात करूंगा। अगर घटना पिंपरी चिंचवड में हुई तो मैं वहां नियुक्त अधिकारी को बताऊंगा। जब मैंने इस दुर्घटना के बारे में सुना तो मैंने उनसे (आयुक्त) बात की। मैं उनसे कभी नहीं कहूंगा कि किसी को बख्श दो, मैं उनसे कहूंगा कि अगर अजित पवार भी गलत है तो आपको उनके खिलाफ भी कार्रवाई करनी चाहिए। मैंने कमिश्नर से कहा कि आपको किसी राजनीतिक दबाव में नहीं आना चाहिए।

अब तक ये विस्फोटक खुलासे

कार से केवल चार लोग बाहर निकले: प्रारंभिक सोर्स के अनुसार, केवल चार व्यक्ति वाहन से बाहर निकले। चारों में से 2 पिछली सीट पर थे और सुपर ब्रैट गाड़ी चला रहा था। सूत्र, जो दुर्घटनास्थल पर मौजूद था, जहां पोर्शे ने टक्कर मार दी और दो तकनीशियनों, अनीश और अश्वनी की मौत हो गई, ने पुष्टि की कि घटनास्थल पर कोई ड्राइवर नहीं था।

सीन में ड्राइवर अचानक कैसे आ गया : प्राथमिक सूत्र ने खुलासा किया कि ड्राइवर अचानक पुलिस स्टेशन में प्रकट हुआ, क्योंकि वह दुर्घटना स्थल पर मौजूद नहीं था। पुलिस स्टेशन में यह उपस्थिति सूत्र के लिए आश्चर्यजनक थी, जिसने ड्राइवर को घटनास्थल पर नहीं देखा।

Advertisement

कार से भागे दो लोग: हादसे के तुरंत बाद दो व्यक्ति कार से बाहर निकले और अलग-अलग दिशाओं में भाग गए।

रईसजादा गाड़ी चला रहा था: 17 वर्षीय रईसजादा ड्राइवर की तरफ से कार से बाहर आया। उसे ड्राइवर की तरफ से बाहर निकाला गया, जिससे पुष्टि हुई कि दुर्घटना के समय वह गाड़ी चला रहा था।

Advertisement

ये भी पढ़ेंः क्या स्वाति मालीवाल मारपीट मामले में विभव कुमार की होगी रिहाई? दिल्ली हाई कोर्ट में 31 मई को सुनवाई

Advertisement

Published May 29th, 2024 at 16:21 IST

आपकी आवाज. अब डायरेक्ट.

अपने विचार हमें भेजें, हम उन्हें प्रकाशित करेंगे। यह खंड मॉडरेट किया गया है।

Advertisement

न्यूज़रूम से लेटेस्ट

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Whatsapp logo