Advertisement

Updated April 3rd, 2024 at 16:28 IST

'मैं जहां से हूं वहां हाथ को साफ कर दिया गया, साइकिल पंचर कर दी गई'- MP में दहाड़ीं स्मृति ईरानी

केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी एमपी के खजुराहो पहुंची बीजेपी उम्मीदवार के प्रचार के लिए। यहां उन्होंने पहले की राजनीति और वर्तमान राजनीति में भेद क्या है ये बताया

Reported by: Kiran Rai
smriti irani and rahul gandhi
स्मृति ईरानी और राहुल गांधी | Image:ANI/File
Advertisement

Smriti Irani Election Campaign:  केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने खजुराहो से BJP उम्मीदवार VD शर्मा के समर्थन में नामांकन रैली में भाग लिया। इस दौरान मंच से कांग्रेस पर ताबड़तोड़ वार किए। अपनी कोशिशों का जिक्र कर विपक्ष की खामियां गिनाईं।

अमेठी का नाम ले एक गांधी परिवार की एकाधिकार को कैसे तोड़ा ये बताया। ईरानी ने दावा किया कि पहले जानबूझकर भाजपा के खिलाफ माहौल बनाया गया लेकिन अब ऐसा नहीं है।

Advertisement

'हाथ साफ साइकिल पंचर'

स्मृति ईरानी ने कहा- मैं उस क्षेत्र से हूं जहां 5 दशक एक खानदान का राज रहा है। उस क्षेत्र में कभी BJP का पटका पहनना मतलब मौत का सामान घर लाना ऐसा वातावरण हुआ करता था। उस क्षेत्र में माथे पर तिलक लगाना होंठों पर राम का नाम होने अपने आप में एक राजनीतिक अभिशाप माना जाता था। जिस क्षेत्र की मैं प्रतिनिधि हूं उस क्षेत्र में हाथ तो था ही लेकिन संग-संग साइकिल भी चलती थी। मैं उस क्षेत्र हूं जहां हाथ को साफ किया गया, साइकिल पंचर की गई।

Advertisement

अमेठी में स्मृति एक बार हारीं तो अगली बार जीतीं

2014 में बीजेपी की ओर से स्मृति ईरानी को खड़ा किया गया। उस साल मेहनत बहुत की। गांधी परिवार के गढ़ को तोड़ने की भरसक कोशिश की, लेकिन सफलता छू कर निकल गई। इसके बाद 2019 के चुनाव में स्मृति ने सभी कयासों को  ध्वस्त कर दिया। बंपर जीत हासिल की। संसदीय सीट की पांच विधानसभाओं में से चार पर भाजपा ने जीत हासिल की। ऐसे में इस बार फिर गैर कांग्रेसी सांसद के दोबारा जीतने पांचों विधानसभा सीटों से जीत हासिल करने की एक बड़ी चुनौती सामने है।

लगातार गिरा कांग्रेस की जीत का परसेंट

साल 2009 में राहुल गांधी ने 57.24 फीसदी मतों के अंतर से जीत दर्ज की थी। लेकिन, 2014 के चुनाव में परिणाम बदल गए। भाजपा के टिकट पर चुनाव मैदान में उतरीं स्मृति जुबिन ईरानी मजबूती से लड़ीं। लेकिन राहुल गांधी ने जीत दर्ज की मतों का प्रतिशत 25.07 फीसदी घटने के साथ ही जीत के अंतर में 32.83 फीसदी कमी आई। इतना बड़ा ड्रॉप कांग्रेस के लिए बड़े झटके से कम नहीं थी।

ये भी पढ़ें- 'दिल्ली में साथ पंजाब में अलग लड़ाई, चोर-चोर मौसेरे भाई',अनुराग ठाकुर ने इंडी पर उठाए सवाल

Advertisement

Published April 3rd, 2024 at 15:54 IST

आपकी आवाज. अब डायरेक्ट.

अपने विचार हमें भेजें, हम उन्हें प्रकाशित करेंगे। यह खंड मॉडरेट किया गया है।

Advertisement

न्यूज़रूम से लेटेस्ट

1 दिन पहलेे
1 दिन पहलेे
2 दिन पहलेे
3 दिन पहलेे
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Whatsapp logo