Advertisement

Updated April 2nd, 2024 at 23:28 IST

टिकट के लिए सपा में सिर फुटौवल की स्थिति, रामपुर-मुरादाबाद के बाद मेरठ को लेकर अखिलेश यादव कन्फ्यूज

समाजवादी पार्टी में टिकट को लेकर सिर फुटौवल की स्थिति बनी हुई है। रामपुर और मुरादाबाद के बाद मेरठ सीट पर टिकट को लेकर भारी असमंजस की स्थिति बन गई है।

Reported by: Digital Desk
Edited by: Sagar Singh
Meerut Lok Sabha Election
रामपुर और मुरादाबाद के बाद मेरठ सीट को लेकर अखिलेश यादव कन्फ्यूज | Image:X/PTI
Advertisement

Lok Sabha Election 2024 : लोकसभा चुनाव में प्रत्याशियों को लेकर हर पार्टी में माथापच्ची देखने को मिल रही है, लेकिन सबसे ज्यादा सिर फुटौवल की स्थिति समाजवादी पार्टी में दिखने को मिल रही है। रामपुर और मुरादाबाद में प्रत्याशियों को लेकर चल रही खींचतान के बाद अब मेरठ लोकसभा सीट पर भी नेता आपस में भिड़ते नजर आ रहे है।

समाजवादी पार्टी ने पहले मेरठ सीट से एडवोकेट भानू प्रताप सिंह को टिकट दिया गया था, लेकिन भानू प्रताप के नाम पर पार्टी के स्थानीय नेताओं ने नाराजगी जाहिर की। इसके बाद अखिलेश यादव ने मेरठ सीट से सरधना से विधायक अतुल प्रधान को प्रत्याशी घोषित कर दिया, लेकिन अब अतुल प्रधान को लेकर भी पार्टी में बगावत छिड़ गई है। अतुल प्रधान के नाम की घोषणा होते ही अब मेरठ शहर विधायक रफीक अंसारी ने मेरठ सीट पर दावा ठोक दिया है।

Advertisement

'मेरी मरते दम तक दावेदारी रहेगी...'

सपा के टिकट को लेकर भारी असमंजस की स्थिति बन गई है। रामपुर और मुरादाबाद के बाद अब मेरठ सीट पर पेंच फंस गया है। समाजवादी पार्टी के नेता अपने अध्यक्ष अखिलेश यादव के फैसले पर सहमत नहीं हो रहे। विधायक रफीक अंसारी मेरठ सीट छोड़ने को तैयार नहीं है। उन्होंने कहा कि मेरी मरते दम तक मेरठ सीट पर दावेदारी रहेगी। विधायक रफीक अंसारी ने नामांकन भी खरीदा हुआ है।

Advertisement

बीजेपी ने ली चुटकी

सपा में सीटों को लेकर जारी खींचतान पर बीजेपी ने चुटकी ली है। यूपी सरकार में परिवहन मंत्री दयाशंकर सिंह ने कहा कि देश और प्रदेश में मोदी की सुनामी चल रही है। इसलिए प्रत्याशी मैदान छोड़कर भाग रहे हैं, विपक्षी पार्टियां अपना आत्मविश्वास खो चुकी हैं। मेरठ सीट पर टिकट लेकर सपा में जहां कंफ्यूजन है, तो वही दूसरी तरफ बीजेपी का जोश हाई है।

Advertisement

सपा के खेमें में दिख रही ये खेमेबाजी और कन्फ्यूजन की स्थिती तभी से दिखाई दे रही है। जबसे बीजेपी ने रामायण सीरियल में श्रीराम की भूमिका निभाने वाले अभिनेता अरुण गोविल को, उनकी जन्मभूमि से लोकसभा प्रत्याशी बनाया है। तभी से सपा में घमासान मचा है। जबकि, इसके उलट बीजेपी ने इस सीट पर जीत दर्ज करने के लिए अपनी पूरी ताकत झोंक दी है।

सपा की कलह से बीजेपी का फायदा

प्रधानमंत्री मोदी ने मेरठ की धरती से चुनाव प्रचार की शुरूआत करते हुए प्रत्याशी अरूण गोविल के लिए वोट की अपील की है। तो वही दूसरी तरफ सपा है जहां टिकटों को लेकर ही रार खत्म होती नजर नहीं हो रही है। मेरठ में पहले चरण में 19 अप्रैल को वोटिंग होनी है ऐसे में सपा की ये आपसी कलह बीजेपी की जीत को आसान बनाती दिखाई दे रही है । हांलाकि नतीजों के लिए 4 जून का इंतजार करना होगा।

ये भी पढ़ें: अरविंद केजरीवाल जिद पर अड़े, अगर नहीं देते इस्तीफा तो क्या हैं विकल्प; बन सकती है स्पेशल जेल?

Advertisement

Published April 2nd, 2024 at 23:28 IST

आपकी आवाज. अब डायरेक्ट.

अपने विचार हमें भेजें, हम उन्हें प्रकाशित करेंगे। यह खंड मॉडरेट किया गया है।

Advertisement

न्यूज़रूम से लेटेस्ट

1 दिन पहलेे
2 दिन पहलेे
4 दिन पहलेे
4 दिन पहलेे
5 दिन पहलेे
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Whatsapp logo