Advertisement

Updated June 6th, 2024 at 21:48 IST

जम्मू-कश्मीर में 90 प्रतिशत लोकसभा उम्मीदवारों की जमानत जब्त, गुलाम नबी आजाद को भी मिली करारी हार

जम्मू-कश्मीर की पांच लोकसभा सीटों के लिए चुनाव लड़ रहे लगभग 90 प्रतिशत उम्मीदवारों की जमानत जब्त हो गई।

Counting of votes
vote | Image:PTI
Advertisement

जम्मू-कश्मीर की पांच लोकसभा सीटों के लिए चुनाव लड़ रहे लगभग 90 प्रतिशत उम्मीदवारों की जमानत जब्त हो गई। ये उम्मीदवार अपने-अपने निर्वाचन क्षेत्रों में डाले गए कुल वोटों का छठा हिस्सा भी हासिल नहीं कर सके।

भारत निर्वाचन आयोग के आंकड़ों के मुताबिक मतदाताओं ने केंद्र शासित प्रदेश में एक लोकसभा क्षेत्र को छोड़कर शेष सभी पर अंतिम निर्णायक जनादेश दिया। आंकड़ों के मुताबिक चुनावी मैदान में उतरे 100 उम्मीदवारों में 89 की जमानत जब्त हो गई है।

Advertisement

बारामूला लोकसभा सीट पर पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला और पीपुल्स कॉन्फ्रेंस के अध्यक्ष सज्जाद गनी लोन जैसे दिग्गजों को हराने वाले निर्दलीय उम्मीदवार शेख अब्दुल राशिद एकमात्र ऐसे विजेता उम्मीदवार थे, जिन्हें कुल डाले गए मतों के 50 प्रतिशत से भी कम मत मिले। उनका वोट प्रतिशत 45.70 रहा।

बारामूला लोकसभा सीट एकमात्र ऐसा निर्वाचन क्षेत्र था जहां तीसरे स्थान पर रहे उम्मीदवार सज्जाद गनी लोन अपनी जमानत राशि बचाने में सफल रहे। जमानत बचाने के लिए 16.34 प्रतिशत मतों की जरूरत थी और लोन को 16.76 प्रतिशत मत मिले थे।

Advertisement

नेशनल कांफ्रेंस के नेता आगा रुहुल्लाह मेहदी को सबसे अधिक 52.85 प्रतिशत मत मिले। जम्मू लोकसभा सीट से 'हैट्रिक' लगाने वाले भाजपा के जुगल किशोर को 52.80 प्रतिशत मत मिले। उधमपुर में लगातार तीसरी बार जीतने वाले भाजपा नेता और केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह को 51.28 प्रतिशत मत मिले, वहीं अनंतनाग-राजौरी सीट से पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती को हराने वाले नेशनल कांफ्रेंस के मियां अल्ताफ अहमद को 50.85 प्रतिशत वोट मिले।

गुलाम नबी आजाद की डेमोक्रेटिक प्रोग्रेसिव आजाद पार्टी को इस चुनाव में करारी हार का सामना करना पड़ा। उसके तीनों उम्मीदवारों की जमानत जब्त हो गई। उनकी पार्टी के एक भी उम्मीदवार चार प्रतिशत वोट भी हासिल नहीं कर पाए।

Advertisement

उधमपुर लोकसभा सीट से चुनाव लड़ने वाले गुलाम मोहम्मद सरूरी को 3.56 प्रतिशत मत प्राप्त हुए। अनंतनाग- राजौरी से चुनाव लड़ रहे मोहम्मद सलीम पर्रे को 2.49 प्रतिशत और श्रीनगर के उम्मीदवार आमिर भट्ट को 2.24 प्रतिशत मत मिले। जम्मू कश्मीर के पांच निर्वाचन क्षेत्रों में सात महिलाएं चुनावी मैदान में थीं और केवल जम्मू और कश्मीर पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती ही अपनी जमानत बचाने में सफल रहीं। 

Advertisement

(Note: इस भाषा कॉपी में हेडलाइन के अलावा कोई बदलाव नहीं किया गया है)

Published June 6th, 2024 at 21:48 IST

आपकी आवाज. अब डायरेक्ट.

अपने विचार हमें भेजें, हम उन्हें प्रकाशित करेंगे। यह खंड मॉडरेट किया गया है।

Advertisement

न्यूज़रूम से लेटेस्ट

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Whatsapp logo