Advertisement

Updated April 4th, 2024 at 15:05 IST

लोकसभा चुनाव से पहले कांग्रेस में भूचाल...दो दिनों में इन 3 दिग्गजों ने दिया झटका, उबर पाएगी पार्टी?

Lok Sabha Election 2024: कांग्रेस से पिछले 2 दिन में 3 बड़े नेताओं ने किनारा किया है, जिसमें बॉक्सर विजेंदर सिंह, गौरव वल्लभ और मुंबई से संजय निरुपम शामिल हैं।

Reported by: Dalchand Kumar
boxer vijender singh, gourav vallabh and sanjay nirupam
बॉक्सर विजेंदर सिंह के बाद अब गौरव वल्लभ और संजय निरुपम ने कांग्रेस छोड़ी। | Image:ANI/PTI
Advertisement

Lok Sabha Election 2024: लोकसभा चुनावों में भारतीय जनता पार्टी 370 सीटों के साथ भारी जीत की ओर अग्रसर है, जबकि कांग्रेस का कुनबा सिमटता दिख रहा है। कांग्रेस पार्टी में चुनावों से ठीक पहले भगदड़ मची है। दिल्ली से महाराष्ट्र तक कांग्रेस की नाव छोड़कर पार्टी नेता भाग रहे हैं। पिछले दो दिनों में ही देश की सबसे पुरानी पार्टी के अंदर ऐसा भूचाल आया है कि तीन-तीन बड़े नेता कांग्रेस से किनारा कर गए हैं।

कांग्रेस में 2024 की शुरुआत से ही इस्तीफे का दौर चल रहा है। कांग्रेस छोड़ने वाले नेताओं में पूर्व मुख्यमंत्री से लेकर कार्यकारी प्रदेश अध्यक्ष, मौजूदा सांसद, पूर्व सांसद और पूर्व विधायक तक शामिल हैं। फिलहाल दो दिनों में तीन बड़े नेताओं ने कांग्रेस से किनारा किया है, जिसमें बॉक्सर विजेंदर सिंह, गौरव वल्लभ और मुंबई से संजय निरुपम शामिल हैं।

Advertisement

विजेंदर सिंह ने बुधवार को कांग्रेस छोड़ी

मुक्केबाजी में भारत के लिए पहला ओलंपिक पदक जीतने वाले और कांग्रेस नेता विजेंदर सिंह बुधवार को बीजेपी में शामिल हुए। विजेंदर सिंह ने साल 2019 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस के टिकट से दक्षिणी दिल्ली संसदीय क्षेत्र से चुनाव लड़ा था, लेकिन हार गए थे। कई दिनों से कयास लग रहे थे कि कांग्रेस उन्हें इस बार मथुरा सीट से मैदान में उतार सकती है, जहां से मौजूदा सांसद हेमा मालिनी तीसरी बार चुनाव मैदान में हैं। विजेंदर सिंह जाट समुदाय से आते हैं, जिसका हरियाणा की कई सीट पर राजनीतिक प्रभाव माना जाता है।

Advertisement

यह भी पढे़ं: जमुई में पीएम मोदी का राजद पर करारा प्रहार और नीतीश की प्रशंसा, कहा- एनडीए ने बिहार को दलदल से निकाला

गौरव वल्लभ ने कांग्रेस छोड़ बीजेपी ज्वाइन की

विजेंदर सिंह के कांग्रेस छोड़ने के अगले ही दिन गुरुवार को प्रवक्ता गौरव वल्लभ ने पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा दे दिया। वल्लभ ने कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे को अपना इस्तीफा भेजा। फाइनेंस को प्रोफेसर गौरव वल्लभ पिछले कई महीनों से टीवी डिबेट से भी गायब थे। लंबे समय से उनकी कोई प्रेस वार्ता भी नहीं हुई थी। अचानक से गुरुवार को उन्होंने पार्टी छोड़ने का ऐलान किया और अब बीजेपी का दामन थाम लिया है।

संजय निरुपम ने कांग्रेस से इस्तीफा दिया

गौरव वल्लभ के अलावा गुरुवार को महाराष्ट्र के दिग्गज नेता संजय निरुपम ने भी कांग्रेस को ‘बाय-बाय’ कह दिया। संजय निरुपम लोकसभा चुनाव लड़ना चाहते थे, लेकिन वो सीट उद्धव गुट को मिल गई। इससे निरुपम काफी नाराज थे। अब उन्होंने कांग्रेस पार्टी छोड़ दी है और सोशल मीडिया के जरिए अपने इस्तीफे की घोषणा की।

यह भी पढे़ं: वायनाड में राहुल गांधी के रोड शो से कांग्रेस के झंडे ही 'गायब', डर किस बात का?

Advertisement

2024 में कांग्रेस छोड़ने वाले दिग्गज नेता

  • महाराष्ट्र कांग्रेस के दिग्गज नेता मिलिंद देवड़ा
  • महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री अशोक चव्हाण
  • महाराष्ट्र कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष बसवराज पाटील
  • गुजरात के बड़े ओबीसी नेता अर्जुन मोढवाडिया
  • गुजरात इकाई के कार्यकारी अध्यक्ष अंबरीश डेर
  • पूर्व केंद्रीय मंत्री और मध्य प्रदेश के दिग्गज नेता सुरेश पचौरी
  • यूपी में लाल बहादुर शास्त्री के पोते विभाकर शास्त्री
  • उत्तराखंड में पूर्व मुख्‍यमंत्री भुवन चंद खंडूरी के बेटे मनीष खंडू
  • केरल में पूर्व CM के करुणाकरण की बेटी पद्मजा वेणुगोपाल
  • झारखंड में कांग्रेस की एकमात्र सांसद गीता कोड़ा
  • कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और ओडिशा के पूर्व मंत्री गणेश्वर बेहरा
  • बिहार कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष अनिल शर्मा

ये सिर्फ कुछ ही चर्चित चेहरे हैं, जो कांग्रेस छोड़कर गए हैं। उनके अलावा भी सांसद, पूर्व सांसद, बहुत से विधायकों के साथ साथ वरिष्ठ नेताओं ने कांग्रेस छोड़ी है। देश के लगभग एक दर्जन से ज्यादा राज्यों में कांग्रेसियों ने पार्टी से इस्तीफा देकर दूसरे दलों को ज्वाइन किया है। कांग्रेस छोड़ने वाले नेता खासकर बीजेपी में आए हैं।

कांग्रेस में भगदड़ पर बीजेपी क्या कहती है?

भारतीय जनता पार्टी का कहना है कि कांग्रेस नेताओं का पार्टी से 'मोहभंग' इसलिए हो रहा है, क्योंकि राहुल गांधी अपने राजनीतिक विचारों से उन नेताओं को समझाने में विफल साबित हो रहे हैं। बीजेपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता सुधांशु त्रिवेदी कहते हैं- 'गौरव वल्लभ की चिंताएं मूल रूप से कांग्रेस नेता एके एंटनी की ओर से कही गई बातों की प्रतिध्वनि हैं, जो 2014 में पार्टी की हार के बाद गठित समिति के प्रमुख थे और जिन्होंने अपनी रिपोर्ट में कांग्रेस की हार का प्रमुख कारण एक धर्म के प्रति उसका बहुत अधिक झुकाव बताया था।'

सुधांशु त्रिवेदी कहते हैं, 'एके एंटनी ने निष्कर्ष दिया था कि कांग्रेस की करारी हार की सबसे बड़ी वजह यह है कि पार्टी का एक धर्म की ओर झुकाव होता दिख रहा है।' फिलहाल सवाल यही है कि क्या अब कांग्रेस पार्टी इन झटकों से उबर पाएगी, क्योंकि 19 अप्रैल से ही लोकसभा के चुनावों की शुरुआत हो रही है।

Advertisement

यह भी पढे़ं: राहुल के पास 55 हजार कैश, 18 आपराधिक मामले... कहां तक की पढ़ाई, कितनी संपत्ति? जानकर चौंक जाएंगे आप

Advertisement

Published April 4th, 2024 at 13:59 IST

आपकी आवाज. अब डायरेक्ट.

अपने विचार हमें भेजें, हम उन्हें प्रकाशित करेंगे। यह खंड मॉडरेट किया गया है।

Advertisement

न्यूज़रूम से लेटेस्ट

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Whatsapp logo