Advertisement

Updated April 2nd, 2024 at 14:21 IST

Akshaya Tritiya 2024: इस साल किस दिन पड़ रही है अक्षय तृतीया, जानिए डेट, मुहूर्त और पूजा विधि

Akshaya Tritiya 2024 Date: इस साल किस दिन अक्षय तृतीया का व्रत रखा जाएगा? आइए जानते हैं।

Reported by: Kajal .
Akshaya Tritiya
अक्षय तृतीया 2024 | Image:Freepik
Advertisement

Akshaya Tritiya 2024: हर साल वैशाख माह के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि के दिन अक्षय तृतीया का व्रत किया जाता है।  हिंदू धर्म में अक्षय तृतीया का विशेष महत्व है। इस दिन मुख्य रूप से भगवान विष्णु (Lord Vishnu) और माता लक्ष्मी (Maa Lakshmi) की पूजा की जाती है। माना जाता है कि इस दिन पूजा-पाठ और व्रत करने से जीवन की हर परेशानी और दुख का नाश होता है। साथ ही घर में सुख समृद्धि हमेशा बनी रहती है।

ऐसे में अगर आप भी अक्षया तृतीया का व्रत करने जा रहे हैं तो आपको जान लेना चाहिए कि इस साल यह किस दिन पड़ रही है और इसका पूजन मुहूर्त और पूजा विधि क्या होगी। तो चलिए जानते हैं इस बारे में।

Advertisement

कब है अक्षय तृतीया 2024 (Akshaya Tritiya 2024 Date)

पंचांग के अनुसार, इस साल तृतीया तिथि की शुरुआत 10 मई, सुबह 4 बजकर 17 मिनट पर होगी और इसका समापन 11 मई के दिन सुबह 2 बजकर 50 मिनट पर हो होगा। ऐसे में 10 मई, शुक्रवार के दिन अक्षय तृतीया का व्रत किया जाएगा।

Advertisement

अक्षय तृतीया 2024 पूजा मुहूर्त (Akshaya Tritiya Puja Shubh Muhurt)

बात करें अक्षय तृतीया के दिन पूजा के शुभ मुहूर्त की तो 10 मई के दिन सुबह 5 बजकर 49 मिनट से दोपहर 12 बजकर 23 मिनट के बीच पूजा करने सबसे उत्तम रहेगा। इसके अलावा आप इस दिन किसी भी समय पूजा कर सकते हैं।

Advertisement

अक्षय तृतीया की पूजा विधि (Akshaya Tritiya Puja Vidhi)

  • अक्षय तृतीया के दिन सुबह जल्दी उठकर स्नान आदि करें।
  • इसके बाद स्वच्छ व पीले रंग के वस्त्र धारण करें।
  • इस दिन मां लक्ष्मी और भगवान विष्णु की पूजा की जाती है।
  • ऐसे में लकड़ी की चौकी पर लाल कपड़ा बिछाकर इस पर भगवान विष्णु और माता लक्ष्मी की प्रतिमा स्थापित करें।
  • अब गंगाजल छिड़ककर जगह को शुद्ध करें।
  • अब विष्णु जी और मां लक्ष्मी के सामने दीप प्रज्वलित करें।
  • इसके बाद भगवान विष्णु और मां लक्ष्मी को फूल, फल और भोग के लिए बनाया गया प्रसाद अर्फित करें।
  • आप इस दिन भगवान को पीले रंग की मिठाई और खीर का भोग लगा सकते हैं।
  • अंत में विष्णु जी और मां लक्ष्मी की आरती कर सुख-समृद्धि की कामना करें। 

ये भी पढ़ें: Agra Trip: जा रहे हैं आगरा तो ताजमहल ही नहीं, करें इन जगहों का भी दीदार; हो जाएंगे मंत्रमुग्ध

Advertisement

Disclaimer: यहां दी गई जानकारी सिर्फ अलग-अलग सूचना और मान्यताओं पर आधारित है। REPUBLIC BHARAT इस आर्टिकल में दी गई किसी भी जानकारी की सत्‍यता और प्रमाणिकता का दावा नहीं करता है।

Published April 2nd, 2024 at 13:42 IST

आपकी आवाज. अब डायरेक्ट.

अपने विचार हमें भेजें, हम उन्हें प्रकाशित करेंगे। यह खंड मॉडरेट किया गया है।

Advertisement

न्यूज़रूम से लेटेस्ट

2 दिन पहलेे
2 दिन पहलेे
3 दिन पहलेे
4 दिन पहलेे
6 दिन पहलेे
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Whatsapp logo